ब्रिटेन के यूरोपीय संघ (ईयू) से अलग होने (ब्रेक्जिट) पर औपचारिक वार्ता शुरू हो चुकी है. समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक ब्रिटेन के ब्रेक्जिट मंत्री डेविड डेविस सोमवार को ईयू के वार्ताकार मिशेल बर्नियर के साथ बात करने के लिए ब्रसेल्स पहुंचे. इस बैठक से पहले ब्रेक्जिट मंत्री ने कहा कि यह वार्ता यूरोपीय संघ के साथ नई, गहरी और विशेष साझेदारी की शुरुआत करेगी जो ईयू और ब्रिटेन की जनता के हित में होगा. उन्होंने आगे कहा कि वे इस बातचीत में सकारात्मक और रचनात्मक रुख अपनाएंगे. ब्रिटेन के ब्रेक्जिट मंत्री का यह भी कहना था, ‘इस बातचीत में हमें बांटने से ज्यादा जोड़ने वाली बातें हैं.’

रिपोर्ट के मुताबिक ईयू के वार्ताकार मिशेल बर्नियर अपने समकक्ष से ज्यादा निराश दिखाई दिए. उन्होंने कहा, ‘मुझे उम्मीद है कि सोमवार को हम लोग ब्रेक्जिट के प्रारूप और समय सारिणी पर सहमति कायम करने में सफल हो सकेंगे. ’ वहीं, प्राथमिकता के बारे में उनका कहना था कि वे पिछले एक साल से जारी अनिश्चितता को दूर करना चाहेंगे.

लगभग एक साल पहले 23 जून को हुए जनमत संग्रह में ब्रिटेन की जनता ने ब्रेक्जिट के पक्ष में फैसला सुनाया था. इसके तीन महीने बाद ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरेसा मे ने अगले दो साल में ब्रेक्जिट प्रक्रिया को पूरा करने की समय सीमा तय कर दी थी. टेरेसा मे की तरह डेविड डेविस जैसे ब्रेक्जिट समर्थक नेता ईयू के एकल बाजार और कस्टम यूनियन से पूर्ण अलगाव चाहते हैं, जिसे ‘हार्ड ब्रेक्जिट’ कहा जा रहा है. वहीं, वित्त मंत्री फिलिप हेम्मांड और अन्य लोग हार्ड ब्रेक्जिट नहीं बल्कि ईयू के साथ सीमा शुल्क समझौतों को बनाए रखना चाहते हैं. हालांकि, ईयू के बाकी देश ब्रिटेन को कोई छूट देने के पक्ष में नहीं हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि इससे दूसरे देशों में भी ऐसी मांगें उठ सकती हैं. कुल मिलाकर आने वाले समय में ब्रिटेन और ईयू के बीच बातचीत में कई उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकते हैं.