दिल्ली मेट्रो के यात्रियों को अब किराए के भुगतान के लिए कार्ड या कॉइन रखने की जरूरत नहीं पड़ेगी. अब मेट्रो में सफर करने वाले यात्री हाथ में बंधी घड़ी के जरिए किराये का भुगतान कर सकेंगे. दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (डीएमआरसी) ने इसके लिए ऑस्ट्रेलिया की कंपनी लेक्स से समझौता किया है. लेक्स द्वारा बनाई गई घड़ियों को मेट्रो स्टेशन के पेमेंट गेट पर किराए के भुगतान के लिए इस्तेमाल किया जा सकेगा. डीएमआरसी ने न्यूज़ एजेंसी आईएएनएस को बताया कि ‘वाच टू पे’ नाम की इन घड़ियों के अंदर एक सिम कार्ड लगा होगा जिसके जरिए इससे रिचार्ज और भुगतान किया जा सकेगा.

डीएमआरसी के मुताबिक यात्रियों को स्टेशन गेट एक्सेस पर मौजूद ऑटोमेटिक फेयर कलेक्शन मशीन के स्क्रीन पर घड़ी को टच करना होगा और किराए का भुगतान हो जाएगा. इन घड़ियों को ऑनलाइन ई-कॉमर्स साइट से खरीदा जा सकता है. भारत में इन घड़ियों का उपयोग पहली बार नहीं हो रहा है. 2015 में लेक्स हैदराबाद मेट्रो के साथ भी ऐसा करार कर चुकी है.

सैमसंग अपना सबसे विवादित फोन नोट 7 फिर लांच करेगी

दुनिया की नंबर एक मोबाइल निर्माता कंपनी सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स ने अपना विवादास्पद स्मार्टफोन गैलेक्सी नोट 7 एक बार फिर बाजार में उतारने का ऐलान किया है. वाल स्ट्रीट जनरल की एक रिपोर्ट के अनुसार कंपनी इस स्मार्ट फोन को गैलेक्सी नोट 7 एफई के नाम से बाज़ार में लाएगी. रिपोर्ट के मुताबिक सैमसंग अपने इस स्मार्टफोन को इसी महीने सात तारीख को दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल में लांच कर सकती है.

सैमसंग ने करीब 60 हजार की कीमत वाला यह फ्लैगशिप फोन पिछले साल अगस्त में लांच किया था. लेकिन, दुनिया भर में इसके फटने या इससे धुआं निकलने की घटनाओं के बाद कंपनी को इसका उत्पादन बंद करना पड़ा था. इस घटना के बाद उसने 25 लाख नोट-7 स्मार्टफोन ग्राहकों से वापस लिए थे जिसमें उसे करीब तीन अरब डॉलर यानी लगभग 20 हजार करोड़ रु का नुकसान उठाना पड़ा था. कंपनी की साख को भी काफी धक्का लगा था.

उधर, बीते मंगलवार को दक्षिण कोरियाई मीडिया ने सैमसंग के हवाले से बताया कि नोट 7 की बैटरी में आई खामी को पूरी तरह दूर कर लिया गया है. हालांकि, गैलेक्सी नोट 7 एफई की कीमत के बारे में पूछे जाने पर कंपनी के एक प्रवक्ता ने मीडिया को बताया कि हैंडसेट की कीमत पर अभी फैसला नहीं हुआ है और लॉन्चिंग के दिन आधिकारिक तौर पर इसकी घोषणा की जाएगी.

अब फेसबुक के जरिए घर बैठे वोटर आईडी कार्ड बनवाने की सुविधा

अब लोग अपना वोटर आईडी कार्ड किसी दफ्तर में जाने के बजाय फेसबुक के जरिए घर बैठे बनवा सकेंगे. बीते बुधवार को चुनाव आयोग के अध्यक्ष नसीम जैदी ने मीडिया को इसकी जानकारी देते हुए बताया कि आयोग ज्यादा से ज्यादा लोगों की वोटर आईडी बनाने के मकसद से फेसबुक के साथ एक मुहिम चलाने जा रहा है. इसके तहत फेसबुक अपने यूजर्स को एक जुलाई से रिमाइंडर भेजना शुरू करेगा जिसके जरिए वे लोग जिनका वोटर आईडी कार्ड नहीं बना है, अपना आईडी कार्ड बनवा सकते हैं.

इसकी प्रक्रिया के बारे में आयोग ने बताया कि प्रत्येक यूजर के नोटिफिकेशन बार में एक रिमाइंडर अलर्ट भेजा जाएगा. इस रिमाइंडर के बाद अगर कोई यूजर वोटर आईडी बनवाने के लिए ‘यस’ बटन पर क्लिक करता है तो उसको राष्ट्रीय मतदाता सेवा पोर्टल पर रिडायरेक्ट कर दिया जाएगा. यहां जाकर यूजर अपनी वोटर आईडी बनवाने के लिए रजिस्ट्रेशन कर सकता है. रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया पूरी करने के बाद चुनाव आयोग यूजर का वोटर आईडी कार्ड उसके घर पर भेज देगा.