देश के 73 फीसदी लोग अब भी केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर भरोसा करते हैं. यह निष्कर्ष आेईसीडी (ऑर्गनाइजेशन फॉर इकनॉमिक को-ऑपरेशन एंड डेवलपमेंट) नामक एक संस्था की ओर से जारी एक रिपोर्ट में सामने आया है. यह रिपोर्ट ‘ओईसीडी गवर्नमेंट एट ए ग्लांस’ शीर्षक से प्रकाशित की गई है.

द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक रिपोर्ट गैलप वर्ल्ड पोल (जीडब्ल्यूपी) की ओर से जुटाए गए आंकड़ों पर आधारित है. इसमें बताया गया है कि मोदी सरकार दुनिया के उन शीर्ष देशों की सरकारों में शुमार है जिन पर लोगों की बहुसंख्यक आबादी भरोसा करती है. इनमें शीर्ष पर स्विट़्ज़रलैंड की सरकार को रखा गया है जिस पर 80 फीसदी स्विस नागरिकों ने भरोसा ज़ताया है. जबकि दूसरे नंबर पर अपने देश के 79 फीसदी लोगों के भरोसे पर टिकी इंडोनेशिया की सरकार है. सूची में भारत का सरकार का नंबर तीसरा है.

रिपोर्ट के मुताबिक ग्रीस की सरकार इस सूची में सबसे नीचे है. उस पर वहां के सिर्फ 13 फीसदी लोग ही भरोसा करते हैं. दक्षिण कोरिया की प्रधानमंत्री पार्क ग्युन हे ने भी अपने लोगों का भरोसा खोया है. वहां सिर्फ 25 फीसदी लोग उनकी सरकार को भरोसेमंद मानते हैं. अमेरिका और ब्रिटेन की सरकारों का हाल भी बेहतर नहीं है. इन देशों में क्रमश. 30 और 41 फीसदी लोग ही राष्ट्रपति डाोनाल्ड ट्रंप और प्रधनमंत्री थेरेसा मे के शासन पर भरोसा कर पा रहे हैं.

रिपोर्ट में ‘भरोसे’ को परिभाषित भी किया गया है. इसके मुताबिक किसी व्यक्ति या संगठन के कार्यों के प्रति बनी सकारात्मक धारणा ही उनके प्रति भरोसे का प्रतीक है. देश और सरकारों के संदर्भ में यह भरोसा आर्थिक विकास और सरकार की प्रभावोत्पादकता में मददग़ार होता है.