‘गोरक्षा के नाम पर नरभक्षक बनना ठीक नहीं है.’

— रामदास अठावले, केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री

केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले का यह बयान महाराष्ट्र के नागपुर में गोमांस ले जाने के शक पर एक व्यक्ति की पिटाई को लेकर आया. उन्होंने कहा, ‘आपको पुलिस के पास जाने का अधिकार है, लेकिन कानून को हाथ में लेने का अधिकार नहीं है.’ रामदास अठावले ने आगे कहा, ‘देश में सबको बीफ खाने का अधिकार है.’ उनका यह भी कहना था कि देश में गोरक्षा के नाम पर हिंसा करने वालों को कठोर सजा मिलनी चाहिए. भाजपा के साथ सरकार में शामिल रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया के अध्यक्ष रामदास अठावले लंबे समय से गोरक्षा के नाम पर हिंसा का विरोध कर रहे हैं.

‘हिंदुस्तान उम्मीद कर रहा था कि राहुल नानी के घर से बुद्धि लेकर आएंगे, लेकिन लगता है कि खाली हाथ आ गए.’  

— अनिल विज, हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री

मंत्री अनिल विज का यह बयान कश्मीर समस्या और नोटबंदी को लेकर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की हालिया टिप्पणी पर आया. कश्मीर समस्या के लिए राहुल गांधी और उनकी पार्टी को जिम्मेदार ठहराते हुए उन्होंने कहा, ‘जम्मू-कश्मीर में कांग्रेस ने जिस तरह शासन किया, नीतियां बनाईं और अलगाववादियों को फलने-फूलने का मौका दिया, उसी से आज वहां ऐसे हालात हैं.’ अनिज विज ने आगे कहा कि इसके लिए राहुल गांधी और सोनिया गांधी को देश से माफी मांगनी चाहिए. हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कश्मीर से आतंकवाद को समाप्त करने की कोशिश कर रहे हैं.


‘जदयू को सरकार और सत्ता छोड़ने में महज पांच मिनट का वक्त लगेगा.’

— अजय आलोक, जनता दल-यूनाइटेड (जदयू) के प्रवक्ता

जदयू नेता अजय आलोक ने यह बात बिहार के महागठबंधन में शामिल राजद द्वारा संख्या बल बताए जाने के जवाब में कही. उन्होंने कहा, ‘जो लोग अपने पास 80 विधायक होने की धमकी दे रहे हैं, उन्हें गलतफहमी में नहीं रहना चाहिए. सत्ता हमारे लिए बहुत मायने नहीं रखती.’ नीतीश कुमार को महागठबंधन का नेता बताते हुए अजय आलोक ने आगे कहा कि भ्रष्टाचार पर कोई समझौता नहीं किया जाएगा. उनका यह भी कहना था कि उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों पर राजद को महागठबंधन को खतरे में डालने वाली ऐसी बयानबाजी नहीं करनी चाहिए और इस पर जनता में सफाई देनी चाहिए.


‘उत्तर प्रदेश विधानसभा में विस्फोटक का मिलना एक खतरनाक साजिश का हिस्सा है.’

— योगी आदित्यनाथ, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का यह बयान विधानसभा में मिले सफेद पाउडर के विस्फोटक होने की पुष्टि करते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘यह पाउडर पेंटाएरीथ्रिटॉल टेट्रानाइट्रेट (पीईटीएन) नाम का विस्फोटक था जो 150 ग्राम था. लेकिन, इसकी 500 ग्राम मात्रा विधानसभा को ध्वस्त करने के लिए काफी थी.’ इसकी जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) से कराने की जानकारी देते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विधानसभा में क्विक रिस्पांस टीम (क्यूआरटी) का न होना दुर्भाग्यपूर्ण है. उन्होंने सभी विधायकों से सुरक्षा दिशा-निर्देशों का पालन करने का अनुरोध किया. वहीं, विपक्षी दलों ने इस घटना को राज्य की कानून-व्यवस्था और सुरक्षा से जोड़कर सरकार पर निशाना साधा है.


‘रूस से बात न करना बेवकूफी होगी.’

— डोनाल्ड ट्रंप, अमेरिका के राष्ट्रपति

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का यह बयान रूस को दूसरी सबसे बड़ी परमाणु शक्ति बताते हुए आया. रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को अमेरिका आने का निमंत्रण देने के सवाल पर उन्होंने कहा, ‘मैं समझता हूं कि इसके लिए यह सही समय नहीं है. लेकिन, मेरा जवाब हां है. सही समय पर उन्हें बुलाऊंगा.’ राष्ट्रपति चुनाव में रूस के कथित दखल को लेकर डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि उन्होंने पिछले हफ्ते रूसी राष्ट्रपति से मुलाकात के दौरान इस बारे में दो बार पूछा था और उनका जवाब न में आया था. अमेरिकी राष्ट्रपति ने यह भी कहा कि जब वे अगली बार व्लादिमीर पुतिन से मिलेंगे तो इस पर उनसे दोबारा बात करेंगे.