एआईएडीएमके (अखिल भारतीय अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम) की नेता वीके शशिकला द्वारा बेंगलुरू जेल के अफसरों को रिश्वत देने का आराेप लगाने वाली कर्नाटक पुलिस की डीआईजी डी रूपा का तबादला कर दिया गया है. उन्हें जेल से यातायात विभाग में तैनात कर दिया गया है.

द इंडियन एक्सप्रेस ने समाचार एजेंसी एएनआई के हवाले से सोमवार को बताया कि रूपा के साथ चार अन्य अफसरों का भी तबादला किया गया है. इनमें राज्य पुलिस के ख़ुफिया विभाग के प्रमुख एमएन रेड्‌डी भी शामिल हैं. हालांकि प्रतिक्रियाएं सिर्फ डीआईजी रूपा के तबादले पर ही ज़्यादा आई हैं. इस पर विपक्ष के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कहा है, ‘मैं इस तबादले से आश्चर्यचकित हूं. मुझे लगता है कि सरकार अवैधानिक गतिविधियों को संरक्षण देना चाहती है.’

डीआईजी रूपा ने पिछले हफ्ते अपनी रिपोर्ट में बड़ा ख़ुलासा किया था. उन्हाेंने जेल महानिदेशक एचएन सत्यनारायण राव और गृह सचिव को भेजी रिपोर्ट में बताया था कि शशिकला ने जेल अफसरों को दो करोड़ रुपए की रिश्वत बांटी. इसके एवज़ जेल के भीतर उनके लिए विशेष रसोई स्थापित की गई. साथ ही जेल प्रशाासन उन्हें अन्य विशेष सुविधाएं भी दे रहा है. जबकि आय से अधिक संपत्ति के आरोप में जेल की सजा काट रही शशिकला को कोर्ट ने आम कैदी की तरह रखने का आदेश दिया है.

यही नहीं इस रिपोर्ट में उन्होंने जेल के भीतर अन्य कई अनियमितताओं का ज़िक्र करते हुए जेल महानिदेशक पर भी आरोप लगाया था कि शशिकला से मिली रिश्वत में उन्हें भी हिस्सा मिला है. इसीलिए वे तमाम चीजों को अनदेखा कर रहे हैं. उन्होंने तुरंत इस मामले की जांच कराने की सिफारिश भी की थी.