‘राष्ट्रपति चुनाव में रामनाथ कोविंद का जीतना कोई रॉकेट साइंस नहीं है.’

— प्रफुल्ल पटेल, एनसीपी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री

एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल का यह बयान राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए प्रत्याशी रामनाथ कोविंद की जीत को तय बताते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘सभी सांसदों का अंतरात्मा की आवाज पर मतदान करना जरूरी नहीं है. वे अपनी पार्टी के फैसले के आधार पर मतदान करते हैं. और पार्टियां विचारधारा, सिद्धांत और राजनीतिक स्थिति के आधार पर बंटी होती हैं.’ प्रफुल्ल पटेल ने आगे कहा कि आंकड़ों के मामले में एनडीए प्रत्याशी का प्रदर्शन बहुत अच्छा रहने वाला है. राष्ट्रपति चुनाव में एनसीपी विपक्ष के संयुक्त उम्मीदवार मीरा कुमार का समर्थन कर रही है.

‘अगर कांग्रेस गोपालकृष्ण गांधी को उपराष्ट्रपति बनाना चाहती है तो उसे अपने दिमागी संतुलन की जांच करानी चाहिए.’

— संजय राउत, शिव सेना के सांसद

शिवसेना नेता संजय राउत का यह बयान उपराष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष के संयुक्त उम्मीदवार गोपालकृष्ण गांधी पर निशाना साधते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस ने क्या सोचकर गोपालकृष्ण गांधी को चुना है. यह वही व्यक्ति हैं, जिन्होंने मुंबई बम धमाके के साजिशकर्ता याकूब मेनन की दया याचिका का समर्थन किया था.’ संजय राउत ने कहा, ‘मैं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से पूछता चाहता हूं कि संकीर्ण सोच का क्या मतलब होता है?’ सोनिया गांधी ने राष्ट्रपति चुनाव को ‘संकीर्ण सांप्रदायिक सोच’ के खिलाफ लड़ाई बताया था.


‘केंद्र सरकार की कूटनीतिक विफलता ने चीन, बांग्लादेश, नेपाल और भूटान से रिश्ते खराब कर दिए हैं.’

— ममता बनर्जी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का यह बयान चीन के साथ सीमा पर जारी विवाद पर राज्यसभा में बहस की मांग करते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘अगर सिक्किम चीन के कब्जे में आता है तो दार्जिलिंग भी उससे अलग नहीं है.’ राज्य में हालिया सांप्रदायिक दंगे और दार्जिलिंग में गोरखालैंड आंदोलन को लेकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, ‘सीमाएं खुली क्यों हैं, एसएसबी, आईबी और रॉ क्या कर रहे हैं, जमात के लोगों को देश में घुसने की इजाजत कैसे मिल रही है?’ नोटबंदी और जीएसटी को सबसे बड़ा घोटाला बताते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि वे जेल चली जाएंगी, लेकिन केंद्र के सामने झुकेंगी नहीं.


नेताजी के कहने पर मैंने और लगभग दर्जन भर विधायकों ने रामनाथ कोविंद को वोट दिया है.’

— शिवपाल यादव, सपा के वरिष्ठ नेता

शिवपाल यादव का यह बयान राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष की संयुक्त प्रत्याशी मीरा कुमार को वोट न देने की जानकारी देते हुए आया. उन्होंने कहा कि सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव (नेताजी) के निर्देश पर कुछ सांसदों ने भी एनडीए प्रत्याशी रामनाथ कोविंद को वोट दिया है. पार्टी के आधिकारिक फैसले को न मानने की वजह पूछे जाने पर शिवपाल यादव ने कहा कि चूंकि पार्टी नेतृत्व ने उनसे इस बारे में कोई सलाह नहीं की थी, इसलिए वे उसके फैसले से बंधे नहीं हैं. सपा नेता का यह भी कहना था कि विपक्ष की प्रत्याशी मीरा कुमार ने उनसे वोट नहीं मांगा था, जबकि रामनाथ कोविंद ने वोट देने की अपील की थी.


‘अगर नवाज शरीफ इस्तीफा दे देते हैं तो लोकतंत्र सुरक्षित बचा रह जाएगा.’

— बिलावल भुट्टो, पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के अध्यक्ष

पीपीपी अध्यक्ष बिलावल भुट्टो ने यह बात पनामा पेपर्स लीक मामले में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनके परिजनों के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई को लेकर कही. उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री नवाज शरीफ पद पर बने रहने का नैतिक और कानूनी अधिकार खो चुके हैं.’ बिलावल भुट्टो ने आगे कहा कि अगर नवाज शरीफ और उनका परिवार कानून को नहीं मानता है तो उनकी पार्टी दूसरे विकल्पों पर भी विचार करेगी. सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित संयुक्त जांच दल (जेआईटी) ने नवाज शरीफ और उनके बच्चों पर आय से अधिक संपत्ति रखने का आरोप लगाया है.