ऑटोमोबाइल सेक्टर का भविष्य कही जाने वालीं सेल्फ ड्राइविंग यानि बिना ड्राइवर के चलने वाली कारों के भारतीय बाजार में आने पर केंद्र सरकार ने रोक लगा दी है. सरकार के मुताबिक स्वचालित कारें देश में बड़ी तादाद में लोगों के बेरोजगार होने का कारण बन सकती हैं इसलिए उन्हें भारतीय बाजार में आने की अनुमति नहीं दी जाएगी.

मंगलवार को पत्रकारों के साथ हुई एक बातचीत के दौरान केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया, ‘सरकार देश में ज्यादा से ज्यादा रोजगार पैदा करने की दिशा में सोच रही है ताकि बेरोजगारी दर घटाई जा सके. ऐसे में भारत जैसे देश में, जहां एक कार एक ड्राइवर को नौकरी देती है, हमें स्वचालित कारों की जरुरत नहीं है.’

परिवहन मंत्री का कहना था कि पश्चिमी देशों में जनसंख्या कम है इसलिए वहां इस तरह के वाहनों की आवश्यकता है. उन्होंने मुताबिक, ‘हमारे यहां हालात अलग हैं. हमारे पास ज्यादा लोग हैं जिन्हें रोजगार की सख़्त जरूरत है. ऐसे में हम भला कैसे इन वाहनों को हमारे यहां आने की इजाजत दे सकते हैं?’

गूगल, टेस्ला और एपल जैसी विश्व स्तरीय नामचीन कंपनियां अरबों डॉलर के निवेश के साथ स्वचालित वाहनों को विकसित करने की दिशा में काम कर रही हैं. इन वाहनों को लेकर तकनीकी विशेषज्ञों का मानना है कि जीपीएस से आने वाले उन्नत इनपुट सिग्नल, इंफ्रारेड किरणों और कंप्यूटर विजन टेक्नॉलॉजी की मदद से ये वाहन न सिर्फ यातायत नियंत्रण में मददगार साबित होंगे बल्कि सड़क दुर्घटनाओं को भी कम करने में कारगर रहेंगे.

लैंडरोवर ने भारत में रेंजरोवर एसवी-ऑटोबायोग्राफी डायनेमिक लॉन्च की

जगुआर लैंडरोवर (जेएलआर) ने इस अपनी एसयूवी एसवी-ऑटोबायोग्राफी डायनेमिक भारतीय बाजार में उतार दी है. इस नयी एसयूवी को जेएलआर के स्पेशल वाहन ऑपरेशन (एसवीओ) यूनिट की तरफ से तैयार किया गया है. बताया जा रहा है कि एसवी-ऑटोबायोग्राफी डायनेमिक रेंजरोवर की सबसे महंगी कार होने के साथ दुनिया की सबसे बेहतरीन एसयूवी भी है.

इस मौके पर जेएलआर इंडिया लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्टर रोहित सूरी ने कहा कि रेंज रोवर एसवी-ऑटोबायोग्राफी डायनेमिक को डिजाइन करने वाली एसवीओ टीम लग्ज़री, प्रदर्शन और तकनीक के क्षेत्र में नई खोज करने के लिए जानी जाती है.

एसवी-ऑटोबायोग्राफी डायनेमिक
एसवी-ऑटोबायोग्राफी डायनेमिक

एसवी-ऑटोबायोग्राफी डायनेमिक लुक्स के मामले में दमदार और बेहद आकर्षक होने के साथ अंदर से भी काफी आलीशान है. जेएलआर ने इस कार में एल्युमिनियम से बना 5 लीटर और 405 किलोवाट क्षमता वाला वी8 सुपरचार्ज पेट्रोल इंजन दिया है. जो 543एचपी की अधिकतम पॉवर के साथ 680एनएम जैसा जबरदस्त टॉर्क देता है. यह वही इंजन है जिसे कंपनी की ही एफ-टाइप एस और रेंज रोवर स्पोर्ट एसवीआर में उपयोग में लिया जाता है. लैंडरोवर के मुताबिक यह एसयूवी 5.4 सेकंड में 0 से 100 किमी/घंटा की रफ़्तार पकड़ लेती है. कीमतों की बात करें तो इस गाड़ी के लिए आपको 2.79 करोड़ रुपए (एक्स शोरूम भारत) चुकाने पड़ेंगे.

डैटसन ने भारतीय बाजार में रेडी-गो का पॉवरफुल वर्जन उतारा

भारतीय कार बाजार में रेनो-क्विड और मारुति की ऑल्टो-के10 जैसी शुरुआती कारों को मिल रही शानदार प्रतिक्रिया के बाद डैटसन ने भी इस बुधवार अपनी हैचबैक रेडी-गो का पॉवरफुल वर्जन बाजार में उतार दिया है. डैटसन जापानी ऑटोमोबाइल कंपनी निसान का ही ब्रांड है.

साल भर पहले लॉन्च हुई रेडी-गो अभी तक 0.8 लीटर क्षमता के इंजन के साथ बाजार में उपलब्ध थी. जिसे अब रेनो-क्विड के 1.0 लीटर क्षमता वाले इंजन से बदलकर दो वैरिएंट टी(ओ) और एस के साथ लॉन्च किया है. यह नया इंजन ताकत में पिछले इंजन से करीब 200 सीसी ज्यादा यानि 999 सीसी क्षमता से लैस होने के साथ 68पीएस की अधिकतम पॉवर और 91एनएम का टॉर्क पैदा करने में सक्षम है. फिलहाल यह इंजन 5-स्पीड मैनुअल गियर बॉक्स से जुड़ा हुआ है. लेकिन सूत्रों का कहना है कि कंपनी रेडी-गो के ऑटोमेटिक वेरिएंट को भी जल्द ही सामने ला सकती है.

रेडी-गो 1.0ली
रेडी-गो 1.0ली

जानकारों की मानें तो बेहतरीन ताकत के साथ रेडी-गो की माइलेज भी आपको खासा आकर्षित कर सकती है. डैटसन के मुतबिक वाहनों पर शोध के लिए बने संस्थान एआरएआई ने प्रमाणित किया है कि रेडी-गो 22.5 किमी/ली की माइलेज देने में सक्षम है.

रेडी-गो में ब्लैक थीम पर ग्रे इंटीरियर्स, फ्रंट पॉवर विंडो, एयर कंडिशनर, म्यूजिक सिस्टम (रेडियो, ऑक्स और सीडी सपोर्टेबल), रिमोट-की और सेंट्रल लॉकिंग जैसे फीचर्स आपको लुभा सकते हैं. हालांकि 1.0 लीटर रेडी-गो में रेडी-गो स्पोर्ट की तरह कॉन्ट्रास्ट ग्राफिक्स और रिवर्स पार्किंग सेंसर नहीं दिए गए हैं. लेकिन इस कार के दोनों वेरिएंट के टॉपएंड मॉडल को डैटसन ने डे टाइम रनिंग लैंप (डीआरएल) और एस वेरिएंट के टॉपएंड मॉडल को ड्राइवर साइड एयर बैग जैसे सेफ्टी फीचर से नवाजा है. कीमतों की बात करें तो आपको रेडी-गो टीन(ओ) के लिए 3.57 लाख रुपए और इसके एस वेरिएंट के लिए 3.72 लाख रुपए (एक्सशोरूम) चुकाने होंगे.