केरल में राजनीतिक हिंसा पर जारी आरोप-प्रत्यारोप के बीच मुख्यमंत्री पी विजयन ने भाजपा पर निशाना साधा है. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार केरल विधानसभा में उन्होंने कहा, ‘सरकार के पास इस बात की खुफिया जानकारी है कि भाजपा राज्य के कुछ हिस्सों में हमले करा सकती है, ताकि अपनी पार्टी के मेडिकल कॉलेज घोटाले से ध्यान भटकाया जा सके.’ मुख्यमंत्री पी विजयन ने आगे कहा कि राज्य सरकार इससे निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है. इस घोटाले में केरल के एक भाजपा नेता पर एक मेडिकल कॉलेज को मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया से मान्यता दिलाने के लिए घूस लेने का आरोप है.

रिपोर्ट के मुताबिक मुख्यमंत्री पी विजयन ने कोझिकोड जिले में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के कार्यकर्ता राजेश की हत्या के मामले को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को सौंपने की भी संभावना जताई. उन्होंने यह भी कहा कि सतर्कता जांच दल इस मामले में भाजपा की आंतरिक जांच रिपोर्ट पर भी विचार करेगा. इस हत्याकांड के बाद राज्य में राजनीतिक हलचल तेज हो गई है. रविवार को केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने मृतक राजेश के घर जाकर पीड़ित परिजनों से मुलाकात की थी. उन्होंने कहा था कि इन हमलों से भाजपा के कार्यकर्ता नहीं डरेंगे, बल्कि विचारधारा के प्रति उनकी प्रतिबद्धता और मजबूत होगी.

केरल में पिछले कुछ महीनों में सीपीएम और भाजपा-आरएसएस कार्यकर्ताओं के बीच टकराव की घटनाएं बढ़ी हैं. इन घटनाओं के लिए आरएसएस के वरिष्ठ पदाधिकारी दत्तात्रेय होसबोले ने पिछले हफ्ते राज्य की सीपीएम सरकार को जिम्मेदार ठहराया था. उन्होंने कहा था कि राज्य प्रायोजित हिंसा में केंद्र को दखल देना चाहिए. फिलहाल, पुलिस ने इस मामले में अब तक आठ लोगों को गिरफ्तार किया है.