अमेरिका के साथ जारी तनाव के बीच उत्तर कोरिया ने अपनी सैन्य क्षमता बढ़ानी शुरू कर दी है. समाचार एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक शनिवार को उत्तर कोरिया के सरकारी मीडिया ने बताया कि प्रशासन ने 34.7 लाख नागरिकों को सात अगस्त से अगले तीन दिन में सुरक्षा बलों में शामिल होने का निर्देश दिया था. और इस आदेश के बाद तकरीबन 35 लाख लोगों ने सेना में शामिल होने वालों की सूची में अपना नाम दर्ज करवाया है. इनमें छात्र, युवा कामगार और रिटायर सैनिक शामिल हैं. लगभग ढाई करोड़ की आबादी वाले उत्तर कोरिया की सेना में सैनिकों की संख्या सात से तेरह लाख के बीच बताई जाती है.

बुधवार को उत्तर कोरिया की राजधानी प्योंगयांग में हजारों लोगों के सड़क पर उतरने की भी तस्वीरें सामने आई थीं. इसमें लोग देश के सर्वेसर्वा किम जोंग-उन के समर्थन और संयुक्त राष्ट्र के नए प्रतिबंधों के विरोध की तख्तियां लहराते दिखाई दे रहे थे. सरकारी न्यूज एजेंसी केसीएनए के मुताबिक इसी तरह गुरुवार और शुक्रवार को भी दूसरे हिस्सों में हजारों लोगों ने सड़क पर उतर कर संयुक्त राष्ट्र के नए प्रतिबंधों का जवाब देने की घोषणा का समर्थन किया है.

उत्तर कोरिया द्वारा पिछले महीने अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल (आईसीबीएम) का परीक्षण करने और अमेरिका को हमले की चेतावनी देने के बाद से दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया है. इसी हफ्ते अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि अगर उत्तर कोरिया ने अमेरिका और उसके सहयोगियों को धमकाना बंद नहीं किया तो उसे ऐसा जवाब मिलेगा, जिसे पूरी दुनिया ने कभी नहीं देखा होगा. इस बीच गुरुवार को उत्तर कोरिया की सेना ने अमेरिकी द्वीप गुआम पर मिसाइल से हमला करने की धमकी दी है. यहां अमेरिका का नौसैनिक अड्डा है और कई खतरनाक हथियार भी रखे हैं.