श्रीसंत को राहत, केरल हाई कोर्ट ने आजीवन प्रतिबंध हटाने का आदेश दिया | सोमवार, 07 अगस्त 2017

क्रिकेट खिलाड़ी एस श्रीसंत को स्पॉट फिक्सिंग मामले में केरल हाई कोर्ट से बड़ी राहत मिल गई है. हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक अदालत ने बीसीसीआई को श्रीसंत पर लगाए गए आजीवन प्रतिबंध को हटाने का आदेश दिया है. यह आदेश देते हुए अदालत ने कहा, ‘उन्हें अदालत से बरी किया जा चुका है. फिर बीसीसीआई आजीवन प्रतिबंध कैसे लगा सकता है?’

एल श्रीसंत ने मार्च में केरल हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. अपनी याचिका में उन्होंने कहा था कि 2015 में दिल्ली की विशेष अदालत द्वारा मैच फिक्सिंग के आरोपों से बरी किए जाने के बावजूद बीसीसीआई ने उन पर लगा प्रतिबंध नहीं हटाया है जो उनके संवैधानिक अधिकारों का हनन है. दिल्ली पुलिस ने 2013 में राजस्थान रॉयल्स के तेज गेंदबाज श्रीसंत को अजित चंडीला और अंकित चव्हाण के साथ गिरफ्तार कर लिया था. इन सभी पर इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के मैच में स्पॉट फिक्सिंग में शामिल होने का आरोप था. इसके बाद बीसीसीआई ने श्रीसंत पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया था. हालांकि, श्रीसंत ने बीसीसीआई पर एकतरफा कार्रवाई करने का आरोप लगाया था.

सुप्रीम कोर्ट : जम्मू-कश्मीर सरकार तीन महीने में गैर-मुस्लिमों के अल्पसंख्यक दर्जे पर फैसला करे | मंगलवार, 08 अगस्त 2017

जम्मू-कश्मीर में गैर-मुस्लिमों के अल्पसंख्यक दर्जे को लेकर राज्य सरकार के रुख पर सुप्रीम कोर्ट ने सख्त नाराजगी जताई है. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार को आखिरी मौका देते हुए इस मामले में तीन महीने में जवाब मांगा है. अदालत ने इससे पहले राज्य सरकार को एक समिति बनाकर अल्पसंख्यक दर्जे से जुड़ी विसंगतियां दूर करने का निर्देश दिया था. लेकिन, राज्य सरकार ने कहा कि कानून-व्यवस्था ठीक न होने की वजह से इस मामले में बैठक ही नहीं हो पाई है. इस पर नाराजगी जताते हुए शीर्ष अदालत ने कहा कि यह जवाब अदालत का अपमान और मजाक उड़ाने जैसा है.

सुप्रीम कोर्ट जम्मू-कश्मीर में गैर-मुस्लिमों के अल्पसंख्यक दर्जे का विवाद सुलझाने के लिए केंद्र और राज्य सरकार दोनों को लगातार निर्देश दे रहा है. इसी साल फरवरी में शीर्ष अदालत ने इससे जुड़ी जनहित याचिका पर जवाब न देने की वजह से केंद्र पर 30,000 रुपये का जुर्माना लगाया था. इस याचिका में यह सवाल भी उठाया गया है कि जम्मू-कश्मीर में मुस्लिमों को धार्मिक और भाषायी अल्पसंख्यकों का लाभ मिल रहा है, जबकि वे बहुसंख्यक हैं. इस याचिका में राज्य में अल्पसंख्यक आयोग बनाने और राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग को यहां तक विस्तार देने का आदेश देने की मांग की गई है.

चंडीगढ़ छेड़खानी मामला : हरियाणा भाजपा अध्यक्ष के बेटे विकास बराला को गिरफ्तार किया गया | बुधवार, 09 अगस्त 2017

चंडीगढ़ छेड़खानी मामले में पुलिस ने अपहरण की कोशिश के आरोप में विकास बराला को गिरफ्तार कर लिया है. चंडीगढ़ पुलिस के अनुसार सीसीटीवी कैमरों के फुटेज में उसे पीड़िता वर्णिका कुंडु की कार का पीछा करते हुए पाया गया. पुलिस ने बुधवार को प्राथमिकी में अपहरण की कोशिश का आरोप जोड़ा है जो पहले नहीं था. दोनों आरोपितों को गुरूवार को अदालत में पेश किया जाएगा.

पुलिस ने बताया कि विकास ने एक अन्य आरोपित के साथ मिलकर पीड़िता की कार का पीछा का किया और फिर उसकी कार रोकर उनके अपहरण की कोशिश की. विकास हरियाणा के प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सुभाष बराला के बेटे हैं जबकि वर्णिका आईएएस अधिकारी बीरेंदर कुंडु की बेटी हैं.

अयोध्या विवाद : सुप्रीम कोर्ट में अंतिम सुनवाई अब पांच दिसंबर से शुरू होगी | गुरुवार, 10 अगस्त 2017

सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि विवाद पर अंतिम सुनवाई शुरू करने के लिए पांच दिसंबर की तारीख तय कर दी है. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक इस मामले की सुनवाई कर रही जस्टिस दीपक मिश्रा, अशोक भूषण और एसए नजीर की सदस्यता वाली पीठ ने दोनों पक्षों को निर्देश दिया है कि वे अगले 12 हफ्तों में इसकी सुनवाई के दौरान जरूरी सभी दस्तावेजों का अंग्रेजी में अनुवाद करा लें. अभी ये दस्तावेज आठ अलग-अलग भाषाओं में हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार को भी इलाहाबाद हाई कोर्ट में सुनवाई के दौरान बतौर सबूत पेश दस्तावेजों का अगले 10 हफ्ते में अंग्रेजी में अनुवाद कराने का निर्देश दिया है. स्पष्ट चेतावनी देते हुए अदालत ने कहा है कि इस मामले की सुनवाई के लिए तय समय सीमा का पालन किया जाएगा और इसकी सुनवाई रोकने की कोई गुंजाइश नहीं है.

पहलाज निहलानी की सेंसर बोर्ड से छुट्टी, प्रसून जोशी नए अध्यक्ष बनाए गए | शुक्रवार, 11 अगस्त 2017

अपने अटपटे फैसलों से कई फिल्मकारों की आंखों की किरकिरी बन चुके पहलाज निहलानी को सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष पद से हटा दिया गया है. उनकी जगह जाने-माने गीतकार प्रसून जोशी को नया अध्यक्ष बनाया गया है. मशहूर विज्ञापन एजेंसी मैक्केन वर्ल्ड के सीईओ प्रसून जोशी हिंदी फिल्मों के सफल गीतकार और पटकथा लेखक भी हैं. मैक्केन ने ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विदेशी दौरों के कैंपेन और मेक इन इंडिया जैसे कार्यक्रमों का प्रचार अभियान संभाला है. पिछले आम चुनावों से पहले जब नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री पद के लिए भाजपा के उम्मीदवार बने थे तो प्रसून जोशी ने उनके लिए प्रचार गीत भी लिखे थे. मोदी सरकार ने उन्हें 2015 में पद्मश्री से भी नवाजा था.

पहलाज निहलानी को ढाई साल पहले जनवरी 2015 में 23 सदस्यीय सेंसर बोर्ड का अध्यक्ष बनाया गया था. कहा जाता है कि उन्हें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का समर्थन हासिल था. लेकिन अपनी नियुक्ति से अब तक वे लगातार विवादों में ही रहे. कभी हद से ज्यादा उनके ‘मोदी प्रेम’ ने सरकार की मुसीबतें बढ़ाईं तो उनके अटपटे फैसलों ने फिल्म उद्योग को भी परेशान किया. टाइम्स आॅफ इंडिया के अनुसार पिछले कुछ समय से उन्हें हटाने पर विचार हो रहा था और इस बारे में उन्हें बता भी दिया गया था.

शरद यादव अब तक बयानबाज़ी ही कर रहे थे और नीतीश ने उनके ख़िलाफ सीधे कार्रवाई कर दी है | शनिवार, 12 अगस्त 2017

बिहार में भारतीय जनता पार्टी के साथ सरकार बनाने के नीतीश कुमार के फैसले के ख़िलाफ जनता दल-यूनाइटेड (जद-यू) के वरिष्ठ नेता शरद यादव अब तक बयानबाज़ी ही कर रहे थे. लेकिन नीतीश ने उनके ख़िलाफ सीधे कार्रवाई कर दी है.

ख़बरों के मुताबिक नीतीश ने शरद को राज्य सभा में जद-यू के नेता के पद से हटा दिया है. उनकी जगह रामचंद्र प्रसाद सिंह को यह ज़िम्मेदारी सौंपी गई है. इस सिलसिले में उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू को लिखित में जद-यू की ओर से पत्र भी सौंपा जा चुका है. जद-यू की बिहार इकाई के अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण ने शनिवार को इस घटनाक्रम की पुष्टि की. पार्टी के फैसले काो सही ठहराते हुए उन्होंने कहा, ‘यह क़दम बहुत ज़रूरी था. क्योंकि अगर शरद यादव के जैसा कोई व्यक्ति पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल हो जाए तो उसकी हर तरफ से निंदा की जानी चाहिए.’

इससे पहले शुक्रवार को जद-यू ने अपने एक अन्य सांसद अली अनवर अंसारी को भी निलंबित कर दिया था. क्योंकि उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी द्वारा बुलाई गई विपक्षी दलों की बैठक में हिस्सा लिया था. अंसारी को शरद समर्थक माना जाता है और वे भी राज्य में भाजपा के साथ सरकार बनाने के फैसले की खुली आलोचना कर चुके हैं.