प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में किया वादा पूरा करते हुए इस बार लाल किले से सबसे छोटा भाषण दिया. द टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक इस स्वतंत्रता दिवस समारोह में उन्होंने 57 मिनट भाषण दिया. पिछले चार साल में उनके भाषण की यह सबसे छोटी अवधि है.

अख़बार के मुताबिक पिछले साल (2016 में) उन्होंने 96 मिनट तक लाल किले से देश को संबाेधित किया था. यह इस जगह से दिया गया सबसे लंबा भाषण था. उस वक्त उन्होंने देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू का रिकॉर्ड तोड़ा था. पंडित नेहरू ने 1947 में लाल किले से 72 मिनट भाषण दिया था.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 में पहली बार लाल किले से 65 मिनट और फिर दूसरी बार 2015 में 86 मिनट का भाषण दिया था. उनके लंबे-लंबे भाषणों के बाताल्लुक ‘मन की बात’ कार्यक्रम के दौरान आम जनता के कुछ शिकायती पत्र मिले थे. इसके बाद उन्होंने वादा किया था कि इस बार वे छोटा भाषण देंगे.

ख़बर के मुताबिक पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने अपने 10 साल के कार्यकाल में सिर्फ दो बार 2005 और 2006 में ही 50 मिनट का भाषण दिया. बाकी आठ साल में उनके भाषण 32 से 45 मिनट में ही पूरे हो गए. यहां तक अटलबिहारी वाजपेयी ने भी लाल किले से दिए अपने सभी भाषणें को 30-35 मिनट के बीच ही रखा था.