वरिष्ठ पत्रकार और चर्चित समाचार चैनल इंडिया टीवी के समाचार निदेशक रहे हेमंत शर्मा को मेडिकल कॉलेज घोटाले में नाम आने के चलते पद छोड़ने को कहा गया था. द वायर के मुताबिक चैनल के प्रमोटर और प्रधान संपादक रजत शर्मा ने इसकी पुष्टि की है. वेबसाइट के मुताबिक उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के मामले में उनका चैनल जीरो टॉलरेंस की नीति पर चलता है और यही वजह थी कि हेमंत शर्मा को जाना पड़ा.

यह मामला कुछ मेडिकल कॉलेजों द्वारा सरकारी अधिकारियों को घूस दिए जाने से जुड़ा है. जरूरी सुविधाओं की कमी के चलते स्वास्थ्य मंत्रालय ने 32 कॉलेजों में दाखिले पर रोक लगा दी थी. द वायर के मुताबिक सीबीआई इन कॉलेजों के प्रबंधन से जुड़े कुछ अधिकारियों के फोन कॉल ट्रैक कर रही थी. इसी दौरान उसे पता चला कि ये कॉलेज दलालों के एक नेटवर्क के जरिये सरकारी अधिकारियों से अपने अनुकूल आदेश लेने की कोशिश कर रहे हैं.

इस महीने की शुरुआत में जांच एजेंसी ने इस सिलसिले में मामला दर्ज कर तीन लोगों को गिरफ्तार भी किया था. जांच के दौरान कुछ आरोपितों ने सीबीआई को बताया कि वे एक हिंदी समाचार चैनल में काम कर रहे एक वरिष्ठ पत्रकार के संपर्क में थे. उनका यह भी कहना था कि इस पत्रकार के स्वास्थ्य मंत्रालय में ऊंचे संपर्क हैं. हालांकि हेमंत शर्मा का नाम एफआईआर में तो नहीं है लेकिन सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा है कि आरोपितों से पूछताछ में उनका नाम सामने आया था. बताया जाता है कि जब इंडिया टीवी को इस बारे में पता चला तो हेमंत शर्मा से इस्तीफा देने को कह दिया गया. हालांकि इस्तीफे के बाद से ही इसके सीबीआई जांच से जुड़े होने की खबरें आने लगी थीं.

हेमंत शर्मा को सत्ताधारी भाजपा के कई नेताओं का करीबी माना जाता है. इसी साल जून में हुई उनके बेटे की शादी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित भाजपा के कई नेता शामिल हुए थे. उनके मुलायम सिंह से भी करीबी संबंध बताए जाते हैं.

द वायर के मुताबिक रजत शर्मा ने कहा है कि भ्रष्टाचार या गलत काम के आरोपों के मामले में उनका रुख जीरो टॉलरेंस का है. उनका कहना था, ‘हेमंत का मेरे संस्थान के साथ बहुत लंबा जुड़ाव रहा है और उन्होंने मेरे रुख का सम्मान किया.’

हालांकि इससे पहले इंडिया टीवी का बयान आया था कि हेमंत शर्मा ने काम से विश्राम लेने का फैसला किया है. तब रजत शर्मा का कहना था, ‘हेमंत ने इंडिया टीवी के साथ एक लंबी यात्रा तय की है और हमारी शुभकामनाएं हमेशा उनके साथ हैं.’ उधर, हेमंत शर्मा का कहना था कि लंबे करियर से विश्राम लेने का फैसला उन्होंने इसलिए लिया है कि वे लेखन की तरफ लौट सकें जो उनका पहला प्यार है.