अब एक आयोग जयललिता के निधन की जांच करेगा

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री पलानीसामी ने पूर्व मुख्यमंत्री जे जयललिता के निधन की जांच के लिए एक आयोग गठित करने की घोषणा की है. गुरुवार को उन्होंने कहा कि एक रिटायर जज जयललिता के निधन की जांच करेगा. पिछले साल पांच दिसंबर को चेन्नई के अपोलो अस्पताल में दिल का दौरा पड़ने से जयललिता का निधन हो गया था. तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री को यहां 22 सितंबर को बुखार और डिहाइड्रेशन की शिकायत के बाद भरती कराया गया था. हालांकि, कुछ खबरों में उनके निधन के पीछे साजिश की आशंका जताई गई थी. (विस्तार से)

पश्चिम बंगाल : ​नग​र निकायों के चुनाव में भी तृणमूल का जलवा बरकरार

पश्चिम बंगाल के राजनीतिक पटल पर तृणमूल कांग्रेस का जलवा बरकरार है. राज्य के सात नगर निकायों के लिए पिछले हफ्ते हुए चुनाव के गुरुवार को आए परिणाम में उसने सभी सीटोंं पर कब्जा कर लिया. उसके प्रभुत्व का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि कुल 148 वार्डों में से उसने 140 पर जीत दर्ज की है. तीन निकायों में तो तृणमूल कांग्रेस ने सारे वार्ड जीत लिए हैं. (विस्तार से)

इरोम शर्मिला ने अपने ब्रिटिश मित्र से शादी की

सामाजिक कार्यकर्ता इरोम शर्मिला गुरुवार को तमिलनाडु के कोडाईकनाल में अपने ब्रिटिश प्रेमी डेसमंड कूटिन्हा के साथ शादी के बंधन में बंध गईं. उन्होंने वहां के सब-रजिस्टार कार्यालय में जरूरी कानूनी औपचारिकताओं को पूरा किया. हालांकि उनकी इस शादी का कई सामाजिक संगठन विरोध कर रहे थे, लेकिन उन्होंने इसकी परवाह नहीं की. इतना ही नहीं, दोनों के परिवार का कोई भी सदस्य इस मौके पर उपस्थित नहीं हुआ. (विस्तार से)

नोबेल विजेता मलाला युसुफजई अब प्रतिष्ठित आॅक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में पढ़ाई करेंगी

पाकिस्तान की नोबेल पुरस्कार विजेता मलाला युसुफजई अब प्रतिष्ठित आॅक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में पढ़ाई करेंगी. 20 साल की मलाला को वहां प्रवेश मिल गया है. सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर यह जानकारी देते हुए उन्होंने लिखा कि वे वहां पढ़ने के लिए बेहद उत्साहित हैं. मलाला को पांच साल पहले पाकिस्तान में तालिबानी बंदूकधारियों ने सिर में गोली मार दी थी, लेकिन वे इस हमले में बचने में सफल रहीं. (विस्तार से)

‘साझा विरासत बचाओ’ सम्मेलन मोदी जी से डरे हुए लोगों का गठबंधन है : रविशंकर प्रसाद

भाजपा ने ‘साझा विरासत बचाओ’ सम्मेलन में शामिल कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों पर जमकर निशाना साधा है. द इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा, ‘मैं भाजपा की तरफ से इसके आयोजनकर्ताओं से पूछना चाहता हूं कि केरल में सीपीएम के गुंडों द्वारा भाजपा-आरएसएस कार्यकर्ताओं की हत्या को वे किस तरह से देखते हैं? क्या यह भी साझा विरासत का हिस्सा है?’ (विस्तार से)

अमेरिका को दूसरों के मामले में दखल देने के बजाय अपना घर संभालना चाहिए : ईरान

ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्लाह अली खामनेई ने अमेरिका में होने वाले नस्लीय टकराव पर तंज कसा है. ट्विटर पर चार्ल्ट्सविले हैशटैग के साथ उन्होंने लिखा है, ‘अगर अमेरिका के पास ताकत है तो उसे अपने देश को अच्छे से संभालना चाहिए, दूसरे देशों के आंतरिक मामलों में दखल देने के बजाए अपने यहां मौजूद श्वेत श्रेष्ठतावाद की चुनौती से निपटना चाहिए.’ खामनेई ने इसके साथ अपनी एक पुरानी तस्वीर को भी साझा किया है, जिसमें वे एक अश्वेत बच्चे को गोद में उठाए हुए हैं. (विस्तार से)

इंडिया टीवी के समाचार निदेशक को मेडिकल कॉलेज घोटाले में नाम आने की वजह से इस्तीफा देना पड़ा था

वरिष्ठ पत्रकार और चर्चित समाचार चैनल इंडिया टीवी के समाचार निदेशक रहे हेमंत शर्मा को मेडिकल कॉलेज घोटाले में नाम आने के चलते पद छोड़ने को कहा गया था. द वायर के मुताबिक चैनल के प्रमोटर और प्रधान संपादक रजत शर्मा ने इसकी पुष्टि की है. वेबसाइट के मुताबिक उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के मामले में उनका चैनल जीरो टॉलरेंस की नीति पर चलता है और यही वजह थी कि हेमंत शर्मा को जाना पड़ा. यह मामला कुछ मेडिकल कॉलेजों द्वारा सरकारी अधिकारियों को घूस दिए जाने से जुड़ा है. (विस्तार से)

गुजरात : सुप्रीम कोर्ट ने इशरत जहां एनकाउंटर केस में आरोपित अधिकारियों को इस्तीफा देने को कहा

गुजरात सरकार को सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका लगा है. शीर्ष अदालत ने फर्जी मुठभेड़ के आरोपित गुजरात पुलिस के दो अधिकारियों एनके अमीन और तरुण बरोट को इस्तीफा देने का आदेश दिया है. राज्य सरकार ने इन्हें संविदा पर दोबारा नियुक्त कर दिया था. गुरुवार को दोनों अधिकारियों ने सुप्रीम कोर्ट में एक हलफनामा दिया था और कहा था कि वे अपने पद से इस्तीफा दे देंगे. इस पर विचार करते हुए चीफ जस्टिस जगदीश सिंह खेहर और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने कहा कि उन्हें आज ही अपने पदों से इस्तीफा देना होगा. (विस्तार से)

गोरखपुर हादसा : जिलाधिकारी ने ऑक्सीजन की कमी के लिए दो डॉक्टरों को जिम्मेदार बताया

उत्तर प्रदेश में गोरखपुर जिले के बाबा राघव दास (बीआरडी) मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की कमी से बच्चों की मौत के मामले में पहली जांच रिपोर्ट आ गई है. गोरखपुर के जिलाधिकारी राजीव रौतेला ने अपनी रिपोर्ट में ऑक्सीजन सप्लाई बाधित होने के लिए एनस्थीसिया विभाग के प्रमुख डॉ सतीश कुमार को मुख्य रूप से जिम्मेदार बताया है. इसके साथ मेडिकल कॉलेज के निलंबित प्रिंसिपल डॉ राजीव मिश्रा को निगरानी रखने की कमी और ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली कंपनी पुष्पा सेल्स के भुगतान में देरी के लिए जिम्मेदार ठहराया गया है. (विस्तार से)

दिल्ली हाईकोर्ट में बम की अफवाह से सनसनी, पुलिस अब सूचना देने वाले की तलाश में

दिल्ली हाईकोर्ट में गुरुवार सुबह बम रखे होने की सूचना से सनसनी फैल गई. यह सूचना मिलते ही पुलिस और बम निरोधक दस्तों की टीमें मौके पर पहुंची. पूरे परिसर की सघन तलाशी ली गई लेकिन कहीं कोई संदिग्ध विस्फोटक सामग्री बरामद नहीं हुई. पुलिस नियंत्रण कक्ष में क़रीब 10.54 बजे एक फोन आया. सूचना देने वाले ने बताया कि उसने दिल्ली उच्च न्यायालय परिसर में बम रख दिया है. (विस्तार से)

क्या टाटा समूह साइरस मिस्त्री की सभी कंपनियों से नाता तोड़ने वाला है?

टाटा समूह जल्द ही साइरस मिस्त्री की कंपनियों से पूरी तरह नाता तोड़ सकता है. द इकॉनॉमिक टाइम्स के अनुसार समूह की मुख्य कंपनी टाटा संस के निदेशक मंडल की नौ अगस्त को हुई बैठक के दौरान इस आशय का फैसला लिया जा चुका है. बताया जाता है कि इस बैठक के बाद टाटा संस के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने समूह की सभी कंपनियों को साइरस मिस्त्री के ग्रुप से नाता तोड़ने का निर्देश भी ज़ारी कर दिया है. (विस्तार से)

सऊदी अरब ने क़तर के हज यात्रियों के लिए अपनी सीमाएं फिर खोलीं

सऊदी अरब ने क़तर के हज यात्रियों के लिए अपनी सीमाएं खोल दी हैं. इस सिलसिले में सऊदी अरब के किंग सलमान ने गुरुवार को आदेश भी ज़ारी कर दिया है. सऊदी अरब के सरकारी मीडिया ने बताया है कि क़तर की राजधानी दोहा से एक वरिष्ठ राजनयिक ने सऊदी अरब के ताकतवर क्राउन प्रिंस (युवराज) मोहम्मद बिन सलमान से मुलाक़ात की थी. इसके बाद यह आदेश ज़ारी किया गया. इस आदेश के बाद अब सलवा बॉर्डर से क़तर के सभी हाज़ी सऊदी अरब की सीमा में प्रवेश कर सकेंगे. (विस्तार से)

प्रसार भारती ने माना कि उसने त्रिपुरा के मुख्यमंत्री से भाषण बदलने के लिए कहा था

दूरदर्शन और आकाशवाणी जैसे सरकारी चैनलों का संचालन देखने वाली संस्था प्रसार भारती ने माना है कि उसने त्रिपुरा के मुख्यमंत्री माणिक सरकार को स्वतंत्रता दिवस पर दिया गया उनका भाषण बदलने के लिए कहा था. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक प्रसार भारती ने सरकार को बताया था कि उन्हें अपने भाषण में से कौन-कौन सी ‘विवादित चीजें’ हटानी चाहिए. माणिक सरकार ने 15 अगस्त को ही आरोप लगाया था कि दूरदर्शन और आकाशवाणी ने उनका भाषण प्रसारित करने से मना कर दिया है. (विस्तार से)