अमेरिका ने अफगानिस्तान में भारत की मौजूदगी से जुड़ी पाकिस्तान की चिंताओं को बेबुनियाद बताया है. द टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के प्रवक्ता माइकल एंटोन ने कहा, ‘भारत अफगानिस्तान में जो कुछ कर रहा है, उससे पाकिस्तान को कोई खतरा नहीं है. भारत न तो वहां सैन्य अड्डा बना रहा है और न ही अपने सैनिक तैनात कर रहा है.’ उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी सरकार आतंकियों को सीधे और सक्रिय मदद पहुंचाने की दोषी है.

राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के प्रवक्ता माइकल एंटोन ने आगे कहा कि भारत अफगानिस्तान में अभी ऐसा कुछ नहीं कर रहा जिसे पाकिस्तान की घेराबंदी माना जाए जिसकी पाकिस्तान अक्सर शिकायत करता है. माइकल एंटोन का यह बयान ट्रंप प्रशासन की नई अफगान नीति की पृष्ठभूमि में आया है. अफगानिस्तान में शांति कायम करने के लिए क्षेत्रीय सहयोग पर जोर देते हुए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत से अफगानिस्तान में ज्यादा सक्रिय भूमिका निभाने की अपील की है. वहीं पाकिस्तान को लेकर उन्होंने कहा कि वहां पर आतंकियों को मिलने वाली सुरक्षित पनाह पर अमेरिका बहुत दिन तक शांत नहीं रहेगा.

इस पर पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय की तीखी प्रतिक्रिया आई थी. उसने कहा कि क्षेत्रीय शांति और सुरक्षा के खतरे को भू-राजनीतिक जटिलताओं, पुराने विवादों और एकाधिकारवादी नीतियों से अलग करके नहीं देखा जा सकता. पाकिस्तान के मुताबिक जम्मू-कश्मीर विवाद न सुलझना ही क्षेत्रीय शांति और सुरक्षा के लिए सबसे बड़ा खतरा है. विदेश मंत्रालय ने आगे कहा कि अमेरिका को ‘सेफ हैवन’ जैसी झूठी कहानियों में उलझने के बजाए आतंकवाद के खात्मे के लिए पाकिस्तान के साथ काम करना चाहिए.