रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता पीवी सिंधु ने बैडमिंटन वर्ल्ड चैंपियनशिप में अपना कांस्य पदक पक्का कर लिया है. शुक्रवार को खेले गए क्वार्टर फाइनल मुकाबले में वे चीन की सुन यू को लगातार गेमों में 21-14, 21-9 से हराने में सफल रहीं. दुनिया की नंबर चार खिलाड़ी सिंधु ने केवल 39 मिनट में छठे नंबर की इस चीनी खिलाड़ी को परास्त कर दिया. सिंधु इससे पहले भी दो बार इस टूर्नामेंट में कांस्य पदक जीत चुकी हैं.

पीवी सिंधु का अब सेमीफाइनल में चीन की ही चेन यूफेई से मुकाबला होगा जिन्होंने क्वार्टर फाइनल मुकाबले में विश्व की नंबर एक रैत्चैनोक इंतानोन को हराया. उधर आज साइना नेहवाल भी अपने क्वार्टर फाइनल मैच में स्कॉटलैंड की किर्स्टी गिलमोर से भिडेंगी. यदि वे इसमें जीत दर्ज करती हैं तो देश को एक और पदक मिलना तय हो जाएगा. हालांकि पुरुष वर्ग में भारत की उम्मीदें एस श्रीकांत की हार के साथ ही अब खत्म हो गई हैं.

स्क्रोलडॉटइन के अनुसार इस मैच से पहले तक दोनों के बीच खेले गए सात मैचों में सुन यू चार बार जीत दर्ज कर चुकी थीं. पिछले साल दिसंबर में खेले गए अंतिम मुकाबले में भी उन्होंने सिंधु को सीधे सेटों में हराया था. यही नहीं, सिंधु ने इस टूर्नामेंट के पिछले मैच में उम्मीद से कमतर प्रदर्शन करते हुए विरोधी खिलाड़ी को हराने में 87 मिनट का समय लिया था. इसके चलते आज के मैच में सिंधु की जीत पर कइयों को थोड़ा संदेह था. लेकिन उन्होंने सारी आशंकाओं को धता बताते हुए शानदार खेल का प्रदर्शन किया.

आंध्र प्रदेश में हाल ही में डिप्टी कलेक्टर बनी 23 वर्षीया इस खिलाड़ी ने मैच की शुरुआत से ही गजब की आक्रामकता दिखाई और विपक्षी खिलाड़ी को संभलने का मौका नहीं दिया. वे पूरे मैच के दौरान शांत और जीत को लेकर निश्चिंत दिख रही थीं. इस मैच में उन्होंने अपनी लंबे कद का भी पूरा फायदा उठाया. आज की इस जीत के बाद उनका पदक पक्का हो गया है. ऐसे में सेमीफाइनल मुकाबले में जीत दर्ज कर वे इस पदक का रंग बदलने की कोशिश करेंगी.