अमेरिका ने आतंकवाद से निपटने को लेकर पाकिस्तान की ढुलमुल नीति के खिलाफ सख्त कदम उठाने का संकेत दिया है. समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार नाम न जाहिर करने की शर्त पर एक वरिष्ठ अमेरिकी अधिकारी ने कहा, ‘आतंकी समूहों पर कार्रवाई करने के बारे में पाकिस्तानी नेतृत्व को राजी करने के लिए अगर जरूरत पड़ी तो ट्रंप प्रशासन सख्त कदम उठाने से नहीं हिचकेगा.’ अधिकारी ने आगे कहा कि पाकिस्तान, अमेरिका का खास साझेदार है लेकिन इस क्षेत्र में (अफगानिस्तान) अमेरिकी प्राथमिकताओं को पूरा करने के लिए उसे आतंकियों के खिलाफ निर्णायक कार्रवाई करनी ही पड़ेगी.

वरिष्ठ अमेरिकी अधिकारी ने नई अफगान और दक्षिण एशिया नीति को पाकिस्तान को लेकर अमेरिका के अब तक के रुख में बदलाव का उदाहरण बताया. रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने कहा कि अमेरिका से साझेदारी का पाकिस्तान को काफी फायदा हुआ है, ऐसे में वह अगर आतंकी समूहों के खिलाफ कार्रवाई से चूकता है तो उसे काफी नुकसान उठाना पड़ेगा. अधिकारी ने आगे कहा, ‘इस समय पाकिस्तान को यह दिखाना होगा कि वह इस क्षेत्र में आतंकरोधी लक्ष्य पाने के लिए अमेरिका का साथ देने के लिए तैयार है.’

अमेरिकी अधिकारी के मुताबिक राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने यह साफ कर दिया है कि वे आतंकियों के सुरक्षित ठिकाने को कहीं भी इजाजत नहीं देंगे और इन दुश्मनों से निपटने के लिए वे सेना को सारे विकल्प देने जा रहे हैं. इसी हफ्ते नई अफगान नीति घोषित करते हुए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि अगर पाकिस्तान ने आतंकियों को सुरक्षित ठिकाना मुहैया कराना बंद नहीं किया तो उसे इसके गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे.