देश के कई राज्यों में कल हुई हिंसा के बाद पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने शनिवार को आदेश दिया है कि गुरमीत राम रहीम सिंह को रोहतक जिला जेल में ही सजा सुनाई जाए. हाई कोर्ट ने राज्य सरकार को इसके लिए जेल में ही सीबीआई अदालत लगाने के इंतजाम करने के निर्देश दिए हैं.

हाई कोर्ट ने आज के आदेश में जेल को ‘सजा सुनाने के लिए सीबीआई अदालत के बैठने की जगह’ अधिसूचित किया है. अदालत ने कहा कि सीबीआई के अपर जिला और सेशन जज जगदीप सिंह और उनके दो स्टाफ को वहां हवाई रास्ते से भेजा जाए ताकि उनकी सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके. हाई कोर्ट ने कहा कि जेल में वकीलों और सभी पक्षकारों के बैठने के ​लिए भी पर्याप्त जगह मुहैया कराई जाए. उसने वहां सुरक्षा के भी पर्याप्त इंतजाम करने को कहा है. हाई कोर्ट ने कल की हिंसा के लिए राज्य सरकार को तगड़ी फटकार भी लगाई है.

इससे पहले शुक्रवार को डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम को 15 साल पुराने बलात्कार के मामले में पंचकूला की सीबीआई अदालत ने दोषी करार दिया था. उसके बाद उन्हें हेलीकॉप्टर के जरिए रोहतक जिला जेल भेजा गया. सीबीआई अदालत का फैसला आने के बाद हरियाणा के अलावा पांच और राज्यों में हिंसक घटनाएं हुई थीं.