‘वित्तीय लेन-देन में पारदर्शिता आज पूरी दुनिया में चिंता का विषय है.’

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का यह बयान स्विटजरलैंड की राष्ट्रपति डोरिस ल्यूथार्ड के साथ बैठक के बाद आया. उन्होंने कहा, ‘काला धन, अवैध संपत्ति और हवाला जैसी वैश्विक चुनौतियों से निपटने के लिए हम (भारत) स्विटजरलैंड के साथ सहयोग जारी रखेंगे.’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को भारत और स्विटजरलैंड के बीच आर्थिक साझेदारी का महत्वपूर्ण पक्ष बताया और स्विस निवेशकों का भारत में स्वागत किया. उन्होंने कहा कि दोनों देश निवेश को लेकर द्विपक्षीय समझौतों पर चर्चा करते रहेंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बताया कि गुरुवार को स्विस राष्ट्रपति के साथ बैठक में भारत और यूरोपीय संघ के बीच प्रस्तावित मुक्त व्यापार समझौते पर भी चर्चा हुई.

‘प्रधानमंत्री मोदी को नोटबंदी पर श्वेत-पत्र की जगह अब श्याम-पत्र लाना चाहिए.’

— सीताराम येचुरी, सीपीएम महासचिव

सीपीएम नेता सीताराम येचुरी का यह बयान पिछले साल के नोटबंदी के फैसले को एक सफल मनी लॉन्डरिंग योजना बताते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘अगर भूटानी, नेपाली और सहकारी बैंकों में जमा पुराने नोटों को मिला लें तो नोटबंदी के बाद अमान्य घोषित 100 फीसदी नोट वापस गए हैं.’ सीताराम येचुरी ने आगे कहा कि नोटबंदी अपने सभी घोषित उद्देश्यों में विफल रही है. उन्होंने कहा कि आठ नवंबर 2016 को नोटबंदी घोषणा में डिजिटाइजेशन जैसे किसी मकसद का जिक्र नहीं था. सीपीएम नेता ने मोदी सरकार पर डिजिटाइजेशन के ‘मुखौटे’ के तहत कुछ निजी कंपनियों की मदद करने का आरोप भी लगाया है.


भारत 21वीं सदी में 19वीं सदी की संस्थाओं के साथ विकास नहीं कर सकता.’

— अमिताभ कांत, नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी

अमिताभ कांत का यह बयान तेज आर्थिक विकास के लिए संस्थाओं के पुनर्गठन की वकालत करते हुए आया. उन्होंने कहा कि इसी वजह से नीति आयोग भारतीय चिकित्सा परिषद, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग और एआईसीटीई जैसी संस्थाओं के पुनर्गठन पर काम कर रहा है. अमिताभ कांत ने आगे कहा कि पूर्वोत्तर के सात राज्य और 201 जिले भारत को पीछे खींच रहे हैं और यहां के लोगों का जीवन स्तर सुधारे बगैर देश का आगे बढ़ना असंभव है. उनके मुताबिक 10 फीसदी से ज्यादा की विकास दर हासिल करने के लिए भारत को 10 चैंपियन राज्यों की जरूरत है. अमिताभ कांत ने इसके लिए राज्यों के बीच प्रतिस्पर्धा पैदा करने की जरूरत बताई.


‘विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में भारत के लचर प्रदर्शन की वजह अभ्यास की कमी है.’

— गीता फोगाट, पहलवान

गीता फोगाट का यह बयान पेरिस में आयोजित विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में 24 सदस्यीय भारतीय दल द्वारा एक भी पदक न जीत पाने पर आया. उन्होंने कहा, ‘विश्व कुश्ती चैंपियनशिप ओलंपिक से भी ज्यादा कठिन है. अगर सौ फीसदी तैयारी नहीं है तो वहां पदक जीतना असंभव है.’ गीता फोगाट ने आगे कहा कि भारतीय दल को अभ्यास करने के लिए पेरिस से काफी दूर एक स्थानीय क्लब दिया गया, जहां कोई सुविधा ही नहीं थी. उन्होंने यह भी कहा कि वहां भारतीय पहलवानों को अभ्यास के लिए दूसरे पहलवान भी नहीं मिले, क्योंकि दूसरे देशों के पहलवान वहां पहुंचे ही नहीं थे. गीता फोगाट ने आगे कहा कि इसके लिए कुश्ती संघ या आयोजकों में से कौन जिम्मेदार है, यह नहीं पता लेकिन पहलवानों को अभ्यास करने की सुविधा न मिलना दुर्भाग्यपूर्ण है.


‘कोरियाई प्रायद्वीप कोई कंप्यूटर गेम नहीं है.’

— हुआ चुनयिंग, चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता

हुआ चुनयिंग का यह बयान अमेरिका द्वारा उत्तर कोरिया के खिलाफ नए प्रतिबंधों का प्रस्ताव करने पर आया. उन्होंने आगे कहा कि कोरियाई प्रायद्वीप की स्थिति बहुत गंभीर है. हुआ चुनयिंग ने कहा, ‘कुछ देशों द्वारा उत्तर कोरिया पर केवल प्रतिबंध लगाना और उत्तर कोरिया के साथ बातचीत के संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव की अनदेखी करना खेदजनक था.’ उधर, चीन के रक्षा मंत्रालय ने भी कहा है कि युद्ध उत्तर कोरिया के संकट का समाधान नहीं है. एक दिन पहले ही अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि बातचीत उत्तर कोरिया का कारगर जवाब नहीं है.