पाकिस्तान में मौज़ूद आतंकी संगठन जमात-उद-दावा (जेयूडी) के दूसरे नंबर के सरगना अब्दुल रहमान मक्की ने भारत के ख़िलाफ फिर ज़हर उगला है. समाचार एजेंसी एएनआई के हवाले से ज़ी न्यूज़ में दी गई ख़बर के मुताबिक मक्की ने लाहौर के अल-दावा स्कूल में ‘शोहदा-ए-कश्मीर’ कॉन्फ्रेंस के दौरान जम्मू-कश्मीर में जिहाद तेज करने का आह्वान किया है. यही नहीं उसने पाकिस्तान सरकार को भी चेतावनी दी कि उसके संगठन ने कश्मीर की आज़ादी के लिए जो जंग छेड़ रखी है उसमें वह दख़ल न दे.

मक्की ने कहा, ‘जेयूडी का इकलौता मकसद कश्मीर को हिंदू सुरक्षा बलों के कब्जे से छुड़ाना है. हिंदुओं को काबू में रखने की ज़रूरत है.’ उसने कहा, ‘आज मुजाहिद खड़ा है खून देने के लिए. आज़ाद-ए-कश्मीर की तारीख़ को अंजाम तक पहुंचाने के लिए.’ इस दौरान उसने आतंकी अबु वलीद मोहम्मद का ज़िक्र भी किया. अबु वलीद को भारतीय सुरक्षा बलों ने अभी हाल में ही बांदीपोरा में हुई एक मुठभेड़ में मार गिराया था. उसे मक्की ने ‘शहीद’ बताते हुए उसकी शान में क़सीदे पढ़े. उसने भारत सरकार पर भी आरोप लगाया कि वह जेयूडी और उसके सरगना हाफिज़ सईद के ख़िलाफ दुनिया के दूसरे देशों को भड़का रहा है. इसकी वज़ह से सईद को पाकिस्तान में नज़रबंद कर दिया गया है.

ग़ौरतलब है कि अभी सोमवार को ही चीन में ब्रिक्स सम्मेलन के दौरान जो संयुक्त घोषणा पत्र ज़ारी हुआ उसमें पाकिस्तान में मौज़ूद आतंकी संगठनों- लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) और जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) का ख़ास ज़िक्र किया गया है. इस घटनाक्रम को भारत की कूटनीतिक जीत माना गया है. जबकि इससे पहले अमेरिका भी पाकिस्तान को आतंकी संगठनों के लिए ‘सुरक्षित पनाहग़ाह’ बता चुका है. इसे भी भारत के राजनयिक प्रयासों का नतीज़ा माना गया था.