‘प्रयागराज में 2019 का कुंभ मेला किसानों को समर्पित होगा.’

— आदित्यनाथ, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री आदित्यनाथ का यह बयान इलाहाबाद में किसानों को कर्जमाफी का प्रमाणपत्र देने के बाद आया. उन्होंने कहा, ‘हम कुंभ के लिए लिए तैयारी कर रहे हैं, प्रयागराज की भूमि का हमारे लिए बहुत महत्व है.’ मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने आगे कहा कि वे दुनिया के सामने उत्तर प्रदेश की अच्छी छवि पेश करना चाहते हैं, इसलिए 2019 के कुंभ मेले को एक खास आयोजन में बदलना चाहते हैं. उनके मुताबिक उत्तर प्रदेश देश को काफी कुछ देने में सक्षम हैं. बुधवार को मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने इलाहाबाद में अर्द्ध कुंभ संबंधी निर्माण कार्यों का शिलान्यास भी किया.

हम देश के हित में बड़े और कड़े फैसले लेने में जरा भी नहीं घबराते.

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह बात म्यांमार में भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए नोटबंदी जैसे फैसलों को लेकर कही. उन्होंने कहा, ‘हम भारत को महज बदल ही नहीं रहे, बल्कि नया भारत बना रहे हैं.’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आगे कहा, ‘गरीबी, आतंकवाद, भ्रष्टाचार, सांप्रदायिकता और जातिवाद मुक्त भारत का निर्माण किया जा रहा है.’ म्यांमार से भारत के जुड़ाव को याद करते हुए उन्होंने कहा कि 1857 के पहले स्वतंत्रता संग्राम के बाद बहादुर शाह जफर को दो गज जमीन यहीं मिली थी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आगे कहा कि यही पवित्र धरती है जहां सुभाष चंद्र बोस ने कहा था कि तुम मुझे खून तो मैं तुम्हें आजादी दूंगा.


‘चीन और पाकिस्तान के साथ युद्ध की संभावना को नकारा नहीं जा सकता.’

— बिपिन रावत, भारतीय थलसेना प्रमुख

जनरल बिपिन रावत का यह बयान पाकिस्तान और चीन सीमा पर खतरों को लेकर आया. उन्होंने कहा, ‘जहां तक उत्तर की स्थिति (चीन) का सवाल है, वह धीरे-धीरे अपनी ताकत दिखा रहा है.’ बिपिन रावत ने आगे कहा कि चीन ‘स्लामी स्लाइसिंग’ (धीरे-धीरे जमीन पर कब्जा करना) के जरिए भारत का धैर्य परख रहा है, इसलिए भारत को टकराव वाली स्थितियों के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए. थल सेनाध्यक्ष ने आगे कहा कि पाकिस्तान के साथ भी शांति की उम्मीद नहीं है, क्योंकि उसकी सेना, राजनीतिक वर्ग और लोगों को आशंका है कि भारत उसके टुकड़े करना चाहता है. जनरल बिपिन रावत के मुताबिक अगर चीन के साथ टकराव होता है तो पाकिस्तान इसका फायदा उठा सकता है.


‘मोदी सरकार के न्यू इंडिया नारे का मतलब आम लोगों की आवाज और असहमतियों को दबाना है.’

— अभिषेक मनु सिंघवी, कांग्रेस प्रवक्ता और पूर्व केंद्रीय मंत्री

कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी का यह बयान कर्नाटक की चर्चित पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या की निंदा करते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘इस कायरतापूर्ण हत्या ने न केवल हमारी अंतरात्मा को हिला दिया है, बल्कि यह हमारे लोकतंत्र के लिए बहुत दुखद समय है.’ अभिषेक मनु सिंघवी ने आगे कहा कि पार्टी ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया से इस मामले में तेजी से कार्रवाई करने और अपराधियों को जल्द से जल्द पकड़ने का अनुरोध किया है. दक्षिणपंथ की आलोचना करने वाली पत्रकार गौरी लंकेश की मंगलवार को उनके घर पर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.


‘कश्मीर से भी हैदराबाद की तर्ज पर निपटा जाना चाहिए था.’

— साध्वी निरंजन ज्योति, केंद्रीय मंत्री

साध्वी निरंजन ज्योति का यह बयान 17 सितंबर 1948 को हैदराबाद रियासत के भारत में विलय का आधिकारिक जश्न मनाने की मांग को लेकर आया. उन्होंने कहा कि सरदार बल्लभ भाई पटेल हैदराबाद, जबकि जवाहर लाल नेहरू कश्मीर मामले से निपट रहे थे, लेकिन दोनों के इरादों में बहुत अंतर था. साध्वी निरंजन ज्योति के मुताबिक सरदार बल्लभ भाई पटेल सभी देसी रियासतों को भारत में मिलाने के पक्ष में थे, लेकिन जवाहर लाल नेहरू क्या सोच रहे थे, यह किसी को नहीं पता. कश्मीर के मौजूदा हालात के लिए अपरोक्ष रूप से पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू को जिम्मेदार बताते हुए उन्होंने कहा कि कश्मीर में जहां कभी वैदिक शिक्षा और तपस्या होती थी, आज बम फूट रहे हैं.


‘परमाणु हथियार संपन्न उत्तर कोरिया को धमकाने का खेल पूरी दुनिया के लिए खतरा बन सकता है.’

— हसन रूहानी, ईरान के राष्ट्रपति

ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी का यह बयान परमाणु हथियारों के लिए अमेरिका द्वारा उत्तर कोरिया को धमकी देने पर आया. उन्होंने कहा, ‘उत्तर कोरिया ने यह रास्ता क्यों चुना, जिसने पूर्वी एशिया के लोगों को चिंता में डाल दिया है? ऐसा इसलिए किया क्योंकि उसके अस्तित्व को खतरा था.’ हसन रूहानी ने आगे कहा कि उत्तर कोरिया के साथ टकराव को बातचीत से सुलझाना चाहिए. उन्होंने यह भी कहा कि अमेरिकी अधिकारियों को अपनी धमकीभरी बयानबाजियों में कमी लानी चाहिए. हालिया परमाणु परीक्षण के बाद उत्तर कोरिया ने दावा किया है कि यह हाइड्रोजन बम था, जिसे मिसाइल में लगाया जा सकता है.