राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत ने मंगलवार को 50 से अधिक देशों के राजनयिकों से मुलाकात की. दिल्ली में हुए इस आयोजन में मोहन भागवत ने यह भी कहा कि संघ और भारतीय जनता पार्टी एक-दूसरे को नहीं चलाते. हालांकि उन्होंने स्वीकार किया कि दोनों संगठन एक-दूसरे से सलाह-मशविरा करते हैं. इस कार्यक्रम का आयोजन राम माधव की अध्यक्षता वाले इंडिया फाउंडेशन ने​ किया था.

इस कार्यक्रम में मोहन भागवत ने यह भी कहा कि हाल के दिनों में सोशल मीडिया पर ट्रोलिंग और आक्रामक व्यवहार की घटनाएं काफी बढ़ गई हैं, जिसका वे समर्थन नहीं करते. इसके अलावा किशोरों और छोटो बच्चों को ज्यादा निशाना बनाने वाले साइबर अपराधों पर भी उन्होंने चिंता जताई. उन्होंने दावा किया कि संघ भेदभाव में विश्वास नहीं करता बल्कि वह बिना किसी भेदभाव के भारत और दुनिया की एकता चाहता है. मोहन भागवत ने इस बैठक में यह भी बताया कि संघ परिवार शिक्षा, स्वास्थ्य, ग्रामीण विकास सहित अन्य क्षेत्रों में हजारों योजनाएं चला रहा है.