जम्मू-कश्मीर के अरनिया और आरएस पुरा सेक्टरों शुक्रवार तड़के पाकिस्तानी सेना की फायरिंग में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) का एक जवान शहीद हो गया. सेना के सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तानी सैनिकों ने छोटे हथियारों से अरनिया में बीएसफ की तीन चौकियों- एसएम बेस, बुदवार और निक्कोवाल को निशाना बनाया.

द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक इस गोलाबारी में बीएसएफ कांस्टेबल बजिंदर बहादुर शहीद हो गए. वे उत्तर प्रदेश के रहने वाले थे. वे बीएसफ की चेनाज़ चौकी पर तैनात थे. गोलाबारी से अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर लगते रिहायशी इलाकों में भी दहशत फैल गई. क्योंकि कई गोले इन इलाकों में भी गिरे थे. ऐसे ही एक गोले ने देवीगढ़ के निवासी केसर राम के घर को नुकसान पहुंचाया. हालांकि किसी नागरिक के जख्मी होने की कोई ख़बर नहीं है.

सूत्रों ने बताया कि इस गोलाबारी का बीएसएफ ने भी करारा ज़वाब दिया. इसके बाद आरएस पुरा सेक्टर में तो पाकिस्तान की ओर से गोलाबारी रुक गई है मगर अरनिया में रुक-रुककर ज़ारी है. ग़ौरतलब है कि पिछले चार महीने में पाकिस्तान ने क़रीब-क़रीब रोज ही किसी न किसी सेक्टर में बेवज़ह गोलाबारी की है. इसमें सेना और बीएसएफ के दर्जन भर जवान शहीद हुए हैं. कई घायल भी हुए हैं. जबकि क़रीब 4,000 लोग इन इलाकों से पलायन कर गए हैं.