‘भारत युद्ध के रास्ते पर नहीं चल रहा है.’

— निर्मला सीतारमण, भारत की रक्षा मंत्री

केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण ने यह बात भारतीय सेनाओं को किसी भी स्थिति से निपटने में सक्षम बताते हुए कही. आतंकवाद से मुकाबले के सवाल पर उन्होंने कहा कि रक्षा मंत्रालय ने इसके लिए प्रभावी कदम उठाए हैं और इनमें उसे सफलता भी मिली है. पाकिस्तान द्वारा संघर्ष विराम के उल्लंघन पर निर्मला सीतारमण ने कहा, ‘हम सीमा संबंधी मामलों से बहुत सावधानी निपट रहे हैं ताकि देश को कोई नुकसान न पहुंचे और शांति भी कायम रहे.’ रक्षा मंत्रालय संभालने के बाद बीते हफ्ते उन्होंने कहा था कि सेना को चुस्त-दुरुस्त रखना उनकी प्राथमिकता है.

‘राहुल गांधी अगले महीने कांग्रेस अध्यक्ष बन सकते हैं.’

— एम वीरप्पा मोइली, वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री

कांग्रेस नेता एम वीरप्पा मोइली का यह बयान कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को पार्टी की कमान सौंपने के सवाल पर आया. उन्होंने कहा, ‘उन्हें (राहुल गांधी) अध्यक्ष बनाने में देरी की बात को पार्टी में हर कोई महसूस कर रहा है.’ वीरप्पा मोइली ने आगे कहा कि राहुल गांधी को तत्काल पार्टी अध्यक्ष का पद संभाल लेना चाहिए, यह पार्टी और देश के लिए अच्छा होगा. उन्होंने यह भी कहा कि राहुल गांधी सांगठनिक चुनावों का इंतजार कर रहे हैं और वे चुनाव प्रक्रिया के जरिए एआईसीसी का अध्यक्ष बनना चाहेंगे. कांग्रेस के लिए संभावनाओं को बढ़ाने के सवाल पर वीरप्पा मोइली का कहना था कि राहुल गांधी यह काम पहले से कर रहे हैं, उनके पास काम करने का नया नजरिया और तरीका है.


‘भारतीय टीम का कोच नहीं बन पाया क्योंकि चयनकर्ताओं से सेटिंग नहीं थी.’

— वीरेंद्र सहवाग, पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी

पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी वीरेंद्र सहवाग का यह बयान भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच के चयन में रवि शास्त्री से मात खाने पर आया. उन्होंने कहा, ‘बीबीसीआई के (कार्यवाहक) अमित चौधरी और जीएम (खेल विकास) एमवी श्रीधर मेरे पास आए थे और इस बारे में सोचने के लिए कहा था.’ वीरेंद्र सहवाग ने आगे कहा कि बीसीसीआई के प्रस्ताव पर आवेदन करने से पहले उन्होंने भारतीय कप्तान विराट कोहली से भी बात की थी. भविष्य में कोच के लिए कभी आवेदन न करने का वादा करते हुए वीरेंद्र सहवाग ने कहा कि रवि शास्त्री ने कोच के लिए आवेदन करने से पहले इनकार किया था.


‘पूरे देश में एक जैसे समाधान कारगर नहीं हो सकते.’

— मनोहर पर्रिकर, गोवा के मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का यह बयान सुप्रीम कोर्ट द्वारा नेशनल हाईवे के किनारे 500 मीटर तक शराब की दुकानों पर पाबंदी लगाने के फैसले पर आया. उन्होंने कहा, ‘चाहे कानून हो या न्याय व्यवस्था या सरकार, हम सभी एक जैसा समाधान चाहते हैं. लेकिन जो बात दिल्ली में सही है, गोवा में सही नहीं हो सकती. हो सकता है कि गोवा में नकारात्मक हो और सफल न हो पाए.’ सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर मनोहर पर्रिकर ने कहा, ‘हाईवे के किनारे शराब की बिक्री बंद होने से ड्राइवर एक या दो गिलास की जगह पूरी बोतल शराब पीने लगे हैं, क्योंकि अब वे बोतल लेकर चलते हैं.’


‘उत्तर कोरिया के मामले में अमेरिका अभी केवल राजनयिक रास्तों का ही इस्तेमाल कर रहा है.’

— रॉबर्ट वुड, अमेरिका के निशस्त्रीकरण राजदूत

अमेरिकी राजदूत रॉबर्ट वुड ने यह बात उत्तर कोरिया द्वारा अब तक की सबसे ज्यादा दूरी तय करने वाली मिसाइल का परीक्षण करने पर आया. सैन्य कार्रवाई के सवाल पर उन्होंने कहा कि अमेरिका अभी ऐसे किसी विकल्प पर विचार नहीं कर रहा है. रॉबर्ट वुड ने आगे कहा कि अमेरिका उत्तर कोरिया पर लगाए प्रतिबंधों की कमियों का पता लगाने और उन्हें दूर करने पर ध्यान देगा. उधर, संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने भी उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षण की निंदा की है. उनका यह भी कहना था कि अगले हफ्ते संयुक्त राष्ट्र आम सभा के 72वें सत्र में उत्तर कोरिया के मसले पर चर्चा की जाएगी.