स्वच्छ भारत मिशन की तीसरी वर्षगांठ के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के सभी नागरिकों से इसमें शामिल होने की अपील की है. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक सोमवार को विज्ञान भवन में उन्होंने कहा, ‘भारत के सामने कई चुनौतियां हैं, लेकिन हम उनसे भाग नहीं सकते, बल्कि हमें एकजुट होकर उनका सामना करना होगा.’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आगे कहा कि एक हजार महात्मा गांधी, एक लाख मोदी, सभी मुख्यमंत्री और सभी सरकारें मिलकर स्वच्छता मिशन को साकार नहीं बना सकतीं हैं. उन्होंने आगे कहा कि देश के 125 करोड़ लोगों की एकजुटता से ही महात्मा गांधी का स्वच्छ भारत का सपना साकार हो सकता है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मुताबिक स्वच्छ भारत मिशन अब जन आंदोलन का रूप से चुका है. उन्होंने कहा कि जैसे ‘सत्याग्रहियों’ ने कभी भारत को स्वराज दिलाया था, वैसे ही ‘स्वच्छताग्रही’ देश को ‘श्रेष्ठ’ बनाने का काम करेंगे. उन्होंने विपक्षी दलों से स्वच्छ भारत मिशन को दलीय राजनीति से अलग रखने की अपील की. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘आप (विपक्ष) तमाम बातों पर मेरी आलोचना कर सकते हैं, लेकिन स्वच्छ भारत मिशन पर राजनीति से ऊपर उठकर बात करें.’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह भी कहा कि स्वच्छ भारत मिशन व्यवस्था और विचार दोनों की स्वच्छता से जुड़ा है. उन्होंने इस अभियान में मीडिया की भूमिका की भी सराहना की.

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गांधी जयंती के मौके पर राजघाट जाकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की समाधि पर फूल चढ़ाए. उनके अलावा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भी राजघाट जाकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को याद किया.