अमेरिका के लास वेगस में हुई गोलीबारी की एक घटना में 50 से भी ज्यादा लोगों की मौत की ख़बर है जबकि क़रीब 200 लोग घायल बताए जा रहे हैं. बीबीसी ने बताया कि रविवार को मंडाले बे नाम के एक होटल में आयोजित संगीत कार्यक्रम के दौरान एक बंदूकधारी ने अंधाधुंध गोलियां चलानी शुरू कर दीं. पुलिस ने संदिग्ध के मारे जाने की बात कही है.

घटना के कई वीडियो सामने आए हैं जिनमें गोलियां चलने की ज़ोरदार आवाज सुनी जा सकती है. इनमें सैकड़ों लोगों के बीच मची अफ़रा-तफ़री को देखा जा सकता है. रिपोर्टों के मुताबिक़ स्थानीय समयानुसार रात साढ़े दस बजे गोलीबारी शुरू हुई. चश्मदीदों ने बताया कि उन्होंने सैकड़ों गोलियां चलने की आवाज़ सुनी. जिन घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, उनमें से 14 की हालत गंभीर बताई गई है. सभी लोग गोली लगने से घायल हुए हैं.

बीते जुलाई में भी अमेरिका में गोलीबारी की एक घटना में कम से कम 17 लोग घायल हो गए थे. यह वारदात अरकंसास राज्य के एक क्लब में हुई थी. इससे पहले ऐसी ही एक घटना में सत्ताधारी रिपब्लिक पार्टी के एक वरिष्ठ सांसद घायल हो गए थे. अमेरिका में बंदूक रखना नागरिकों का मौलिक अधिकार है इसलिए लोगों के पास बंदूकें होना आम बात है. काफी समय से वहां बंदूक संस्कृति पर लगाम लगाने की कोशिशें चल रही हैं. लेकिन हथियार निर्माताओं और उनके समर्थकों की लॉबी के काफी मजबूत होने के कारण ये कोशिशें हर बार आधे रास्ते में अटक जाती हैं.