अमेरिका के लास वेगस में हुई गोलीबारी की एक घटना में 58 लोगों की मौत हो गई जबकि, करीब 200 लोग घायल हुए हैं. इस खबर को आज के अधिकतर अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. रविवार को मंडाले बे नाम के एक होटल में आयोजित संगीत कार्यक्रम के दौरान एक बंदूकधारी ने होटल की 32वीं मंजिल से अंधाधुंध गोलियां चलानी शुरू कर दीं. पुलिस के मुताबिक गोली चलाने वाले 64 वर्षीय व्यक्ति ने बाद में खुद को गोली मारकर खुदकुशी कर ली. इसके अलावा उत्तर प्रदेश के बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के वीसी गिरीश चंद्र त्रिपाठी के अनिश्चितकालीन छुट्टी पर चले जाने की खबर भी अखबारों की प्रमुख सुर्खियों में शामिल है. इसके लिए उन्होंने निजी कारणों का हवाला दिया है.

विदेशी कंपनियां मेक इन इंडिया कार्यक्रम को चूना लगा रही हैं

देश में स्थित मोबाइल फोन बनाने वाली विदेशी कंपनियां मेक इन इंडिया कार्यक्रम को पलीता लगाने का काम कर रही है. हिन्दुस्तान में छपी एक खबर के मुताबिक ये कंपनियां कलपुर्जों का आयात कर भारत में असेंबलिंग कर रही हैं और टैक्स बचाने के लिए मेक इन इंडिया का नाम दे रही हैं. बताया जाता है कि आयातित मोबाइल फोन पर टैक्स चुकाने का प्रावधान है. अखबार के मुताबिक देश में केवल हेडफोन, चार्जर ही बनाए जा रहे हैं. इनकी लागत मोबाइल लागत का पांच फीसदी भी नहीं है.

जैविक घड़ी पर शोध के लिए तीन अमेरिकी वैज्ञानिकों को चिकित्सा का नोबेल

साल 2017 के लिए चिकित्सा के नोबेल पुरस्कार का ऐलान कर दिया गया है. यह प्रतिष्ठित सम्मान इस बार अमेरिकी वैज्ञानिक जेफ्रे सी हॉल, माइकल रोसवाश और माइकल डब्ल्यू यंग को दिया गया है. दैनिक भास्कर ने इसे पहली खबर के रूप में जगह दी है. अखबार के मुताबिक इन्हें यह पुरस्कार इंसान के सोने-जागने की प्रक्रिया को नियंत्रित करने वाली बायोलॉजिकल क्लॉक (जैविक घड़ी) पर अहम शोध के लिए दिया गया है. इन वैज्ञानिकों ने ही पहली बार यह बताया कि यह घड़ी कैसे काम करती है.

माओवादी अब बस्तर की जगह महाराष्ट्र-मध्यप्रदेश- छत्तीसगढ़ की सीमा पर अधिक सक्रिय

माओवादी अब बस्तर की जगह महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ की सीमा पर अधिक सक्रिय हो गए हैं. द हिंदू ने गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के हवाले से यह बात कही है. अधिकारी ने बताया कि इस इलाके में सक्रिय माओवादियों का नया समूह ‘विस्तार प्लाटून’ अपना पैर जमाने की कोशिश में है. उन्होंने आगे कहा कि कई रिपोर्टों से इस बात की पुष्टि होती है. बताया जाता है कि माओवाद प्रभावित तीनों राज्यों की सीमा पर बस्तर के मुकाबले कम सुरक्षाबल तैनात हैं, इसलिए माना जा रहा है कि माओवादियों ने इस इलाके में अपनी सक्रियता बढ़ा दी है.

शेयर बाजार में सूचीबद्ध कंपनियों के मौजूदा प्रशासनिक ढांचे में बड़े बदलाव की संभावना

शेयर बाजार नियामक संस्था भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) द्वारा कॉरपोरेट गवर्नेंस पर गठित 24 सदस्यीय समिति कंपनियों के मौजूदा प्रशासनिक ढांचे में बड़े बदलाव की सिफारिश कर सकती है. ऐसी संभावना है कि इसमें कई सख्त कदम उठाने की बात की जा सकती है. बिजनेस स्टैंडर्ड ने इस खबर को पहले पन्ने पर जगह दी है. अखबार ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि समिति नियमों के उल्लंघन को रोकने के लिए बोर्ड के सदस्यों की भूमिका और दायित्व का दायरा बढ़ाने की सिफारिश कर सकती है. सेबी ने बीते जून में कोटक महिंद्रा बैंक के प्रबंध निदेशक उदय कोटक की अध्यक्षता में इस समिति का गठन किया था.

आज का कार्टून

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के प्रस्तावित अमेठी दौरे पर द एशियन एज में प्रकाशित आज का कार्टून :