रूस ने सीरिया में इस्लामिक स्टेट (आईएस) को बड़ी चोट पहुंचाने का दावा किया है. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक शनिवार को रूसी रक्षा मंत्रालय ने बताया कि बीते 24 घंटे में किए गए हवाई हमलों में सीरिया में 120 जिहादी और 60 विदेशी आतंकी मारे गए हैं. रूस ने आईएस के तीन कमांडरों उमर अल-शिशानी, अला अल-दिन अल शिशानी और सलाह अल-दिन अल शिशानी के मारे जाने की बात कही है. हालांकि, उमर अल-शिशानी को अमेरिका 2016 में ही इराक में मार गिराने का दावा कर चुका है.

रूस ने आईएस को सीरिया में उसके आखिर गढ़ मयादीन में निशाना बनाया है. रूस ने यहां पर आईएस के 80 और अल्बु कमाल में 40 जिहादियों को मार गिराने की बात कही है. एक अन्य हवाई हमले में डेर इज-जोर के दक्षिण में फरात घाटी में 60 विदेशी आंतकी भी मारे गए हैं जो पूर्व सोवियत संघ, ट्यूनीशिया और मिस्र के रहने वाले थे. रूसी रक्षा मंत्रालय के मुताबिक ये सभी आतंकी इराक से सीरिया के सीमावर्ती शहर अल्बु कमाल जा रहे थे.

उधर, ब्रिटेन स्थित सीरियन ऑब्जर्वेटरी ऑफ ह्यूमन राइट्स के प्रमुख रामी अब्दुल रहमान ने जिहादी सलाह अल-दिन अल शिशानी के मारे जाने के रूसी दावे पर सवाल उठाया है. उन्होंने कहा कि वह अभी जिंदा है और एलप्पो प्रांत के पश्चिम में जिहादियों के नियंत्रण वाले किसी इलाके में मौजूद है. ऑब्जर्वेटरी ने रूस के हवाई हमले में गुरुवार को तीन बच्चों सहित 14 आम लोगों के मारे जाने की बात कही है.