रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण रविवार को सिक्किम से लगते उस विवादित इलाके (डोकलाम) के दौरे पर थीं जहां अभी क़रीब एक महीने पहले तक चीन-भारत की सेनाएं आमने-सामने डटी थीं. वह भी दो महीने से ज़्यादा वक़्त तक. लेकिन रक्षा मंत्री के ताज़ा दौरे पर इससे ठीक उलट स्थिति नज़र आई. एकदम सहज और सौहार्दपूर्ण. यहां तक कि रक्षा मंत्री न सिर्फ चीनी सैनिकों से बातचीत करते दिखाई दीं बल्कि उनसे उन्होंने पूछा भी, ‘नमस्ते का मतलब क्या होता है?’

द फाइनेंशियल एक्सप्रेस के मुताबिक रक्षा मंत्री सिक्किम के पास ही नाथू ला दर्रे पर पहुंची तो सामने ही चीन की रक्षा चौकी थी. यहां चीनी सैनिक उनकी तस्वीरें ले रहे थे. तभी वे सीधे उनके सामने पहुंच गईं. यहां उन्हें देखकर चीनी सैनिक भी उनके पास आ गए. उन्होंने उनका अभिवादन किया. ज़वाब में रक्षा मंत्री ने ‘नमस्ते’ कहकर उनका अभिवादन किया. साथ ही ‘नमस्ते’ का मतलब भी पूछ बैठीं. इस बातचीत का वीडियो यूट्यूब पर साझा किया जा रहा है.

वीडियो में एक चीनी सैनिक सीतारमण और अपने अफसरों के बीच दुभाषिए की भूमिका निभा रहा है. वह अपने अफसरों और अन्य जवानों से उनका परिचय कराता है. इसी सैनिक से रक्षा मंत्री ने सवाल किया. ज़वाब में चीनी सैनिक कहता है, ‘नाइस टु मीट यू. (आपसे मिलकर अच्छा लगा).’ इस पर रक्षा मंत्री अगला सवाल करती हैं, ‘इसके चीनी भाषा में क्या कहते हैं?’ तो उन्हें ज़वाब मिलता है, ‘नी हाओ.’ तब उन्होंने चीनियों को बताया, ‘इसे हम नमस्ते कहते हैं.’

Play

इस बातचीत का वीडियो रक्षा मंत्री के अधिकृत ट्विटर हैंडल से भी साझा किया गया है. रक्षा मंत्री ने अपने दौरे में इस इलाके में तैनात सेना और आईटीबीपी (भारत-तिब्बत सीमा पुलिस) के जवानों के साथ भी बातचीत की. उनसे हालात का जायज़ा लिया. समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक रक्षा मंत्री ने डोकलाम-नाथू ला दर्रे का हवाई सर्वे भी किया. उनके साथ भारतीय सेना की पूर्वी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल अभय कृष्णा और सेना के उपप्रमुख सरत चंद्रा भी मौज़ूद थे.