सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में पटाखों की बिक्री पर लगी रोक बढ़ाने का फैसला किया है. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक शीर्ष अदालत ने पटाखों की बिक्री पर पाबंदी को एक नवंबर तक के लिए बढ़ा दिया है. सोमवार को एक पुनर्विचार याचिका पर फैसला सुनाते हुए जस्टिस अर्जन कुमार सीकरी की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा कि वह इस पाबंदी से दिवाली के बाद दिल्ली और एनसीआर में प्रदूषण स्तर पर पड़ने वाले असर का आकलन करना चाहती है. पिछले साल दिवाली के बाद दिल्ली और एनसीआर में लोगों को कई दिनों तक धुंध और प्रदूषण के चलते स्वास्थ्य से जुड़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ा था. इसकी वजह पटाखों का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल बताया गया था.

शीर्ष अदालत ने पटाखों की बिक्री पर रोक हटाने के फैसले से जुड़ी पुनर्विचार याचिका पर छह अक्टूबर को फैसला सुरक्षित रख लिया था. यह याचिका तीन बच्चों के नाम पर लगाई गई थी. इसमें त्योहारों के दौरान पटाखों से होने वाले प्रदूषण को देखते हुए इनकी बिक्री पर पाबंदी को बहाल करने की मांग की गई थी. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने भी इस याचिका का समर्थन किया था.

सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल 25 नवंबर को दिल्ली और एनसीआर में पटाखों की बिक्री पर पूर्ण पाबंदी लगा दी थी. हालांकि पटाखा बनाने वाली कंपनियों ने इसे चुनौती दी थी. इस पर सुनवाई करते हुए इस साल 12 सितंबर को सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों की बिक्री पर पाबंदी को आंशिक तौर पर हटा लिया था. पूर्ण पाबंदी को ‘अतिवादी’ कदम बताते हुए शीर्ष अदालत ने प्रदूषण रोकने के लिए धीरे-धीरे कदम उठाने की रणनीति को ठीक बताया था.