जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों को आतंकवादियों के खिलाफ लड़ाई में एक और बड़ी कामयाबी मिली है. बारामुला ज़िले में सोमवार को सुरक्षाबलों ने जैश-ए-मुहम्मद के एक शीर्ष आतंकी को मार गिराया है. हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक़ पुलिस ने मारे गए आतंकी का नाम ख़ालिद उर्फ़ ख़ालिद भाई बताया है. जैश-ए-मुहम्मद के कमांडर ख़ालिद को जम्मू-कश्मीर में हुए हालिया आत्मघाती हमलों का मास्टरमाइंड माना जाता है. ख़बरों के मुताबिक़ ख़ालिद एक पाकिस्तानी नागरिक था और वह उन आतंकियों की लिस्ट में शामिल था जिनकी पुलिस को सबसे ज़्यादा तलाश थी. कश्मीर रेंज के आईजी मुनीर ख़ान ने उसकी पहचान की पुष्टि की है.

सुरक्षाबलों को ख़बर मिली थी कि राफ़ियाबाद के लदूरा इलाक़े में आतंकी मौजूद हैं. इसके बाद उन्होंने इलाक़े को घेर लिया और तलाशी अभियान शुरू किया. आतंकियों को भागने से रोकने के लिए और जवानों को बुलाया गया था. अधिकारियों ने बताया कि आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर गोलियां चलाना शुरू कर दी थीं जिससे तलाशी अभियान एनकाउंटर में बदल गया और गोलीबारी में ख़ालिद मारा गया. सूत्रों का कहना है कि ख़ालिद का मारा जाना सुरक्षाबलों के लिए एक बड़ी कामयाबी है, क्योंकि घाटी में जैश के सभी आतंकी ऑपरेशनों का नेतृत्व वही कर रहा था.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया से बात करते हुए जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजी एसपी वैद ने भी ख़ालिद के एनकाउंटर को सुरक्षाबलों के लिए महत्वपूर्ण कामयाबी बताया. उन्होंने कहा कि ख़ालिद उत्तरी कश्मीर के सुरक्षा कैंपों पर हुए हमलों के साथ-साथ पुलिसकर्मियों पर हुए हमलों में भी शामिल था. घाटी में पिछले दो-तीन सालों से सक्रिय ख़ालिद जैश के लिए नई भर्तियां कराने में भी सहायता करता था. हाल ही में श्रीनगर एयरपोर्ट के नज़दीक बीएसएफ़ मुख्यालय और पुलवामा स्थित ज़िला पुलिस लाइन पर हुए आतंकी हमले को लेकर भी पुलिस ख़ालिद की भूमिका की जांच कर रही है.