‘औरत और मर्द में बराबरी तो तब होगी जब मर्द भी बच्चे को साढे चार महीने तक कोख में पाले.’

— गुलजार आजमी, जमीयत उलेमा के सचिव

जमीयत उलेमा के सचिव गुलजार आजमी का यह बयान अल्पसंख्यक मंत्रालय द्वारा कम से कम चार महिलाओं को बगैर किसी पुरुष सदस्य के हज जाने की इजाजत देने के प्रस्ताव पर आया. उन्होंने कहा, ‘45 साल से ऊपर उम्र की महिलाओं को अकेले हज पर जाने की इजाजत देना गलत है और इस्लाम में दखलअंदाजी है.’ गुलजार आजमी ने आगे कहा कि कुरान इसकी इजाजत नहीं देता. उन्होंने यह भी कहा कि मोदी सरकार मुसलमानों को तकलीफ देने वाले मुद्दे ही उठा रही है, ऐसे में लोग उसे मुसलमान विरोधी क्यों न मानें. गुलजार आजमी ने प्रस्तावित हज नीति को मोदी सरकार द्वारा अपनी विफलता से लोगों का ध्यान भटकाने की कोशिश बताया.

‘कहीं पर दामाद जमीन हड़पे और कहीं पर बेटा, यह नहीं चलेगा अब.’

— आदित्यनाथ, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री आदित्यनाथ का यह बयान कांग्रेस पर राजीव गांधी फाउंडेशन के नाम पर अमेठी में जमीन कब्जा करने का आरोप लगाते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘सम्राट साइकिल फैक्ट्री की जमीन को राजीव गांधी फाउंडेशन के नाम पर हड़पने नहीं दिया जाएगा.’ मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने कहा कि किसानों की जमीन पर या तो उद्योग लगेगा या फिर उन्हें लौटा दी जाएगी, लेकिन उसे किसी फाउंडेशन या परिवार की जागीर नहीं बनने दी जाएगी. वहीं, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने कहा कि राहुल गांधी को अमेठी आने के बजाए इटली जाना ज्यादा पसंद है.


‘बेटी बचाओ कार्यक्रम अब बेटा बचाओ कार्यक्रम बन गया है.’

— राहुल गांधी, कांग्रेस के उपाध्यक्ष

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का यह बयान केंद्रीय मंत्रियों द्वारा भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बेटे का बचाव करने पर आया. द वॉयर के मुताबिक केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद अमित शाह के बेटे की कंपनी के टर्नओवर में एक साल के भीतर 16 हजार गुना उछाल आ गया था. इस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुप्पी पर सवाल उठाते हुए राहुल गांधी ने कहा कि अगर चौकीदार के सामने चोरी हुई तो वह चौकीदार हुआ या भागीदार. गुजरात के वडोदरा में कांग्रेस उपाध्यक्ष ने भाजपा को महिला विरोधी बताया और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर भी निशाना साधा. राहुल गांधी ने पूछा कि आरएसएस में कितनी महिलाएं हैं और इनकी शाखा में कितनी महिलाएं जाती हैं.


‘जाली नोट आतंकवाद के लिए ऑक्सीजन का काम करते हैं.’

— राजनाथ सिंह, केंद्रीय गृहमंत्री

केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह ने यह बात आतंकियों द्वारा जाली नोटों के इस्तेमाल को लेकर कही. आतंकवाद को समाज के लिए अभिशाप बताते हुए उन्होंने कहा कि कोई भी सभ्य देश इसे स्वीकार नहीं कर सकता. राजनाथ सिंह ने आगे कहा कि आतंकवाद विकास में बाधा है, जिससे निपटने के लिए एनडीए सरकार सख्त कदम उठा रही है. उन्होंने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आतंकवाद के मामले में दुनिया के तमाम देशों को एक मंच पर लाने में सफल रहे हैं. राजनाथ सिंह ने आतंकियों को विदेशों से मिलने वाले पैसों पर रोक लगाने में सफलता के लिए राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की भी सराहना की.


‘अमेरिकियों को नया सबक सिखाने का वक्त आ गया है.’

— मसूद जाजायरी, ईरानी सेना रिवोल्यूशनरी गार्ड के कमांडर और प्रवक्ता

ईरानी सेना के कमांडर मसूद जाजायरी का यह बयान अमेरिका द्वारा रिवोल्यूशनरी गार्ड को काली सूची में डाले जाने की आशंका पर आया. उन्होंने कहा, ‘ऐसा लगता है कि ट्रंप प्रशासन केवल सख्त शब्दों को ही समझ पाता है. दुनिया में ताकत का नया मतलब समझने के लिए अमेरिका को कुछ झटकों की जरूरत है.’ मसूद जाजायरी ने आगे कहा कि अमेरिकियों ने अपने व्यवहार से पूरी दुनिया को पागल बना दिया है. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप इस हफ्ते ईरान के खिलाफ सख्त कदम उठा सकते हैं. इसमें ईरान के साथ 2015 के परमाणु समझौते से पीछे हटने जैसा कदम भी शामिल हो सकता है.