भाजपा के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा ने पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह की कंपनी के टर्नओवर में बेतहाशा बढ़ोतरी के मामले में मोदी सरकार के रुख पर गंभीर सवाल उठाया है. एनडीटीवी के मुताबिक उन्होंने कहा, ‘जिस तरह से ऊर्जा मंत्रालय ने जय शाह को कर्ज दिया और उनके बचाव में मंत्री पीयूष गोयल को आगे किया गया, उससे कहीं न कहीं कुछ गलत होने का संकेत गया है.’ इसकी जांच कराने की विपक्ष की मांग का समर्थन करते हुए उन्होंने कहा, ‘भाजपा भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस का उच्च नैतिक आधार खो चुकी है.’

पिछले हफ्ते द वायर ने केंद्र में मोदी सरकार आने के बाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह की स्वामित्व वाली कंपनी के सालाना टर्नओवर 16 हजार गुना बढ़ने की खबर दी थी. इसके अलावा सरकारी संस्था द्वारा जय शाह की कंपनी को कर्ज देने के तकनीकी पहलुओं पर भी सवाल उठाया था. हालांकि, यह खबर प्रकाशित होने के बाद जय शाह ने द वायर के खिलाफ मानहानि का मुकदमा कर दिया है. इस बारे में पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा का कहना था कि जिस तरह से मानहानि का मुकदमा किया गया है, वह देश और मीडिया के लिए अच्छा नहीं है. उन्होंने आगे कहा कि एडिशनल सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता एक निजी व्यक्ति का अदालत में बचाव करने जा रहे हैं, ऐसा पहले कभी नहीं हुआ है.

उधर, पीयूष गोयल के बाद केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद और गृहमंत्री राजनाथ सिंह भी जय शाह का बचाव कर चुके हैं. इन मंत्रियों ने खबर में उठाए गए सवालों को बेबुनियाद बताया है. हालांकि, विपक्ष इस मामले में सरकार को घेरने की कोशिश कर रहा है. भ्रष्टाचार की आशंका जताते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुप्पी पर सवाल उठाया है.सरकार द्वारा जय शाह का बचाव किए जाने पर कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि सरकार का बेटी बचाओ कार्यक्रम अब बेटा बचाओ कार्यक्रम में बदल चुका है.