गोधराकांड : हाई कोर्ट ने 11 दोषियों की फांसी उम्र कैद में बदली | सोमवार, 09 अक्टूबर 2017

सोमवार को गुजरात हाई कोर्ट ने 2002 के गोधरा में ट्रेन जलाने मामले में अहम फैसला सुनाया. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार निचली अदालत के फैसले को पलटते हुए हाई कोर्ट ने 11 दोषियों की फांसी की सजा को आजीवन कारावास में बदल दिया है. लेकिन 20 अन्य दोषियों को निचली अदालत से मिली आजीवन कारावास की सजा को बरकरार रखा है.

27 फरवरी 2002 को गुजरात के गोधरा स्टेशन पर साबरमती एक्सप्रेस के एस-6 बोगी में आग लगा दी गई थी. इसमें 59 लोग मारे गए थे, जिनमें ज्यादातर कारसेवक थे जो अयोध्या से लौट रहे थे. इस घटना के बाद भड़के दंगों में गुजरात में 1,000 से ज्यादा लोग मारे गए थे. ट्रेन में आगजनी की घटना की जांच के लिए राज्य सरकार द्वारा गठित नानावटी आयोग ने कहा था कि ट्रेन की बोगी में आग अपने आप नहीं लगी थी, बल्कि लगाई गई थी.

होम्योपैथिक डॉक्टरों के लिए बुरी खबर, सरकार क्लीनिक में दवाई बेचने पर रोक लगाएगी | मंगलवार, 10 अक्टूबर 2017

होम्योपैथिक डॉक्टरों के लिए बुरी ख़बर है. जल्द ही ऐसे डॉक्टर अपने परिसर (क्लीनिक) में दवाई नहीं बेच पाएंगे. हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक सरकार द्वारा इस संबंध में नए नियमों का एक मसौदा तैयार किया गया है. इन नियमों के मुताबिक़ कोई भी पंजीकृत होम्योपैथिक चिकित्सक अपने परिसर में होम्योपैथिक दवाइयां नहीं बेचेगा. इन्हें जल्द ही मंजूरी मिलने की संभावना है.

अधिकारियों के मुताबिक काफी समय से शिकायतें मिल रही थीं कि कई केमिस्ट अपनी दुकान पर किसी होम्योपैथ को बिठा देते हैं जो वहीं मरीजों को पर्चा लिखने के बाद दवाइयां भी बेचने लगता है. अधिकारियों के मुताबिक इस नई कवायद का मकसद यही है कि डॉक्टर केवल दवाइयां लिखें, उन्हें बेचें नहीं. हालांकि होम्योपैथी के डॉक्टरों ने इस नए प्रस्ताव की आलोचना की है. प्रसिद्ध होम्योपैथ डॉ कल्याण बनर्जी के मुताबिक इस नए नियम से दवाइयां बेच रहे डॉक्टरों को झटका लगेगा. उन्होंने कहा कि इससे काउंटर पर ही दवाइयां बेचने वाले डॉक्टरों के लिए समस्याएं पैदा हो जाएंगी.

ओडिशा : बीएसएफ के चार जवानों पर आदिवासी नाबालिग लड़की से बलात्कार का आरोप | बुधवार, 11 अक्टूबर 2017

ओडिशा के कोरापुट ज़िले में बीएसएफ के चार जवानों पर एक नाबालिग आदिवासी लड़की के साथ बलात्कार का आरोप लगा है. हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ नाबालिग़ युवती के भाई ने आरोप लगाया कि मंगलवार को (बीएसएफ़ की) वर्दी पहने चार लोगों ने युवती से गैंगरेप किया. उसका कहना है कि ये जवान माओवादियों के ख़िलाफ़ चलाए जा रहे अभियान में शामिल हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक़ पीड़िता नौवीं कक्षा की छात्रा है. वह कुंडुलिहाटा इलाक़े में अपने आधार कार्ड का पंजीकरण करा के अपने गांव मुसुलीगुड़ा लौट रही थी. बताया जा रहा है कि रिक्शे से उतरने के बाद वह पैदल जा रही थी कि तभी वर्दी पहने लोगों ने उसे रोक लिया. पीड़िता के भाई का आरोप है कि चार बीएसएफ़ जवान लड़की को जंगल में ले गए और वहां उसका मुंह बंद कर उसका यौन शोषण किया. उसने यह भी बताया कि उसकी एक रिश्तेदार ने लड़की को बचाया और कोरापुट के ज़िला अस्पताल में भर्ती कराया. मामला दर्ज कर चुकी पुलिस के मुताबिक लड़की की हालत नाज़ुक है. पुलिस ने आरोपितों के फरार होने की बात भी कही है.

आरुषि-हेमराज हत्याकांड : हाई कोर्ट ने निचली अदालत का फैसला पलटते हुए तलवार दंपति को बरी किया | गुरुवार, 12 अक्टूबर 2017

इस हफ्ते गुरूवार को बहुचर्चित आरुषि-हेमराज हत्याकांड में इलाहाबाद हाई कोर्ट ने फैसला सुना दिया. अदालत ने डॉक्टर दंपति राजेश तलवार और नुपुर तलवार को संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया. हाई कोर्ट ने यह फैसला डॉक्टर दंपति की अपील पर सुनाया है. इससे पहले निचली अदालत ने तलवार दंपति को अपनी बेटी आरुषि और नौकर हेमराज की हत्या का दोषी माना था और उम्र कैद की सजा सुनवाई थी. हाई कोर्ट ने गाजियाबाद की डासना जेल में बंद तलवार दंपति को रिहा करने का भी आदेश दिया है.

आरुषि-हेमराज हत्याकांड लगभग नौ साल पुराना है. 16 मई, 2008 को उत्तर प्रदेश में नोएडा के जलवायु विहार में सामने आए इस हत्याकांड में सबसे पहले 14 वर्षीय आरुषि तलवार की हत्या की खबर आई थी. आरुषि डॉक्टर दंपति राजेश तलवार और नूपुर तलवार की एकलौती बेटी थी. जिस दिन आरुषि की हत्या की खबर आई उस दिन उनका नौकर हेमराज गायब था, इसलिए उस पर हत्या शक जताया गया. हालांकि, अगले दिन उसका शव भी उसी घर की छत से बरामद हो गया था.

भारत में भुखमरी की स्थिति और गंभीर हुई, 119 देशों की लिस्ट में देश 100वें स्थान पर | शुक्रवार, 13 अक्टूबर 2017

भारत में भुखमरी की स्थिति गंभीर रूप लेती जा रही है. इसका अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि अंतरराष्ट्रीय खाद्या नीति अनुसंधान संस्थान (आईएफ़पीआरआई) के ग्लोबल हंगर इंडेक्स (जीएचआई) में भारत 100वें स्थान पर पहुंच गया है. टाइम्स ऑफ़ इंडिया की ख़बर के मुताबिक़ पिछले साल विकासशील देशों के इस सूचकांक में भारत की रैंकिंग 97वें स्थान पर थी, लेकिन एक साल में यह तीन पायदान और गिर गई है. ताज़ा रैंकिंग के मुताबिक़ भूखे देशों के मामले में भारत उत्तर कोरिया, बांग्लादेश यहां तक कि इराक़ से भी पीछे है. हालांकि उसकी स्थिति पाकिस्तान से बेहतर है.

आईएफ़पीआरआई ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि भारत के बच्चों में भुखमरी की समस्या सबसे ज़्यादा कुपोषण की वजह से है और यहां सामाजिक क्षेत्र के प्रति मज़बूत प्रतिबद्धता दिखाने की ज़रूरत है. अपने एक बयान में संस्थान ने कहा, ‘(भुखमरी के मामले में) भारत एशिया में तीसरे स्थान पर है. केवल अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान उससे पीछे हैं.’ बयान में कहा गया कि इस साल के सूचकांक में भारत का स्कोर 31.4 है जोकि भुखमरी की ‘गंभीर’ श्रेणी में आता है और इसने दक्षिण एशिया को (भूख से लड़ने की) सबसे ख़राब श्रेणी में ला दिया है जहां वह अफ्रीका के सहारा इलाके से थोड़ा ही पीछे है.

दादरी हत्याकांड के 15 आरोपितों को एनटीपीसी में नौकरी मिली | शनिवार, 14 अक्टूबर 2017

दादरी हत्याकांड के 15 आरोपितों को नेशनल थर्मल पॉवर कार्पोरेशन लिमिटेड (एनटीपीसी) में नौकरी मिल गई है. अंग्रेजी अखबार द हिंदू के अनुसार लोक उद्यम एनटीपीसी ने इन आरोपितों को कॉन्ट्रेक्ट के आधार पर नौकरी दी है. दादरी हत्याकांड के ये सभी आरोपित अभी जमानत पर जेल से बाहर हैं.

सितंबर 2015 में दादरी के बिसाहड़ा गांव में गोहत्या करने और गोमांस खाने की अफवाह फैलने के बाद भीड़ ने मोहम्मद अखलाक के घर पर हमला बोल दिया था. इसमें मोहम्मद अखलाक की मौत हो गई थी, जबकि उसका छोटा बेटा बुरी तरह जख्मी हो गया था.

रिपोर्ट के मुताबिक स्थानीय भाजपा विधायक तेजपाल नागर ने इन आरोपितों की नौकरी दिलाने के लिए नौ अक्टूबर को एनटीपीसी के उच्चाधिकारियों से मुलाकात की थी. इस बारे में तेजपाल नागर ने बताया कि उन्होंने एनटीपीटी के अधिकारियों से बिसाहड़ा गांव के युवाओं को संविदा के आधार पर नौकरी देने का अनुरोध किया था. दादरी हत्याकांड के आरोपितों को निर्दोष बताते हुए भाजपा विधायक ने कहा कि इन युवाओं को बेहतर मौका मिलना ही चाहिए.

गुरदासपुर उपचुनाव: भाजपा को बड़ा झटका, कांग्रेस ने करीब 2 लाख वोटों से जीत हासिल की | शनिवार, 15 अक्टूबर 2017

पंजाब की गुरदासपुर लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव में कांग्रेस को बड़ी जीत मिली है. कांग्रेस के उम्मीदवार सुनील जाखड़ ने अपने करीबी प्रतिद्वंद्वी भाजपा के सवर्ण सलारिया को करीब 2 लाख वोटों से शिकस्त दी है. चुनाव आयोग द्वारा घोषित किए गए नतीजों के अनुसार इस उपचुनाव में कांग्रेस को कुल 4 लाख 99 हजार 752, भाजपा को 3 लाख 6 हजार 533 और आम आदमी पार्टी को 23 हजार 579 वोट मिले हैं.

इस जीत के बाद पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ट्वीट कर कहा, ‘गुरदासपुर के लोगों को भरोसा दिलाता हूं कि सुनील जाखड़ के किए सभी वादे पूरे किए जाएंगे और सभी विकास कार्यों को फास्ट ट्रैक पर किया जाएगा.’ कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने भी इस जीत पर सभी कार्यकर्ताओं और पार्टी आलाकमान को बधाई दी है. उन्होंने कहा, ‘यह हमारे भावी पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी के लिए लाल फीते में लिपटा खूबसूरत दिवाली गिफ्ट है.’