पंजाब की गुरदासपुर लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव में कांग्रेस की जीत की खबर आज के अधिकतर अखबारों के पहले पन्ने पर है. खबरों के मुताबिक कांग्रेसी उम्मीदवार सुनील जाखड़ ने अपने प्रतिद्वंद्वी भाजपा के सवर्ण सलारिया को करीब 1.9 लाख वोटों से शिकस्त दी है. इस जीत के बाद पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा, ‘गुरदासपुर के लोगों को भरोसा दिलाता हूं कि सुनील जाखड़ के किए सभी वादे पूरे किए जाएंगे और सभी विकास कार्यों को फास्ट ट्रैक पर किया जाएगा.’ इस सीट पर भाजपा नेता सासंद विनोद खन्ना के निधन के बाद उपचुनाव कराया गया था.

सीबीआई ने व्यापम घोटाले में आरोपितों की मौत को किसी साजिश का हिस्सा मानने से इनकार किया

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने व्यापम घोटाले में आरोपितों की मौत को किसी साजिश का हिस्सा मानने से इनकार किया है. हिन्दुस्तान में प्रकाशित खबर के मुताबिक सीबीआई का कहना है कि मध्य प्रदेश पुलिस द्वारा अपनी प्राथमिकी में मृत व्यक्तियों के नाम आरोपितों की सूची में शामिल किए जाने के चलते यह विवाद हुआ. बताया जाता है कि जांच एजेंसी को 24 लोगों की मौत की जांच करने के लिए कहा गया था. जांच में पाया गया कि 16 की मौत इस मामले में आरोपित बनाने से काफी पहले हो चुकी थी. इसके अलावा सीबीआई का कहना है कि बाकी आठ लोगों की मौत प्राकृतिक कारणों से हुई है.

एनपीए के बोझ से जूझ रहे सहकारी बैंकों पर कर्जमाफी योजना की मार

फंसे हुए कर्ज (एनपीए) के बोझ से जूझ रहे देश के सहकारी बैंकों पर कर्जमाफी योजना की भी मार पड़ रही है. बिजनेस स्टैंडर्ड के मुताबिक राज्यों की इस योजना ने फसल कर्ज के भुगतान पर बुरा असर डाला है. बताया जाता है कि कर्जदार किसानों को उम्मीद है कि आने वाले दिनों में और कर्जमाफी होगी. अखबार ने नेशनल फेडरेशन ऑफ स्टेट कॉपरेटिव बैंक के हवाले से कहा है कि जिला केंद्रीय सहकारी बैंकों का एनपीए मार्च, 2016 में 22,406 करोड़ रुपये था. इसके अलावा राज्य सहकारी बैंकों का एनपीए 5,147 करोड़ रुपये था. जानकार इसके चालू वित्तीय वर्ष में बढ़ने की आशंका जाहिर कर रहे हैं. राज्यों में अधिकतर फसल कर्ज सहकारी बैंकों के जरिये ही दिए जाते हैं.

दुनिया के बड़े शहरों में महिलाओं के खिलाफ यौन हिंसा के लिहाज से दिल्ली की स्थिति बदतर

दुनिया के 19 बड़े शहरों में महिलाओं के खिलाफ यौन हिंसा के लिहाज से दिल्ली की स्थिति बदतर है. यह बात थॉमसन रॉयर्स फाउन्डेशन के सर्वे में सामने आई है. द टाइम्स ऑफ इंडिया ने इस खबर को पहले पन्ने पर जगह दी है. अखबार के मुताबिक इस सर्वे में दिल्ली चौथे पायदान पर है. इस सूची में मिस्र की राजधानी काहिरा पहले और कराची (पाकिस्तान) दूसरे पायदान पर है. बताया जाता है कि इस साल जून और जुलाई के दौरान किए गए इस सर्वे में अकादमिक, गैर-सरकारी संगठनों, स्वास्थ्यकर्मी, नीति निर्माताओं और सामाजिक कार्यकर्ताओं से बातचीत की गई.

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने अर्थव्यवस्था के लिए राहत पैकेज देने से इनकार किया

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने अर्थव्यवस्था को राहत देने के लिए किसी तरह का आर्थिक पैकेज देने से इनकार किया है. अमर उजाला में छपी एक खबर के मुताबिक वाशिंगटन में वित्त मंत्री ने कहा, ‘मैंने राहत पैकेज शब्द का इस्तेमाल नहीं किया था. मैंने तो कहा था कि हालात को देखते हुए फैसले लेंगे. मीडिया ने इस बात का मतलब राहत पैकेज निकाल लिया.’ अरुण जेटली का आगे कहना था कि इस बारे में मीडिया से ही पूछा जाना चाहिए. वित्त मंत्री विश्व बैंक और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की बैठक में हिस्सा लेने के लिए अमेरिकी दौरे पर हैं.

आज का कार्टून

राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी सौंपे जाने के आसार पर द हिंदू में प्रकाशित आज का कार्टून :