माल्टा की चर्चित खोजी पत्रकार डैफनी करुआना गलीजिया की एक कार बम धमाके में मौत हो गई है. समाचार एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार सोमवार को घर से निकलने के बाद उनकी कार में जबरदस्त धमाका हुआ, जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई. डैफनी करुआना गलीजिया ने पनामा पेपर्स के जरिए अपने देश में विदेशी टैक्स हैवन से जुड़े मामलों का खुलासा किया था.

पत्रकार डैफनी करुआना गलीजिया ‘रनिंग कमेंट्री’ नाम से एक ब्लॉग चलाती थीं. इसके जरिए वे राजनेताओं से जुड़े भ्रष्टाचार के मामलों को उजागर कर रही थीं. द न्यूयॉर्क टाइम्स के अनुसार सोमवार को अपनी मौत होने से लगभग 30 मिनट पहले उन्होंने माल्टा के प्रधानमंत्री जोसेफ मस्कट के चीफ ऑफ स्टाफ के खिलाफ भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए एक ब्लॉग पोस्ट लिखी थी. उन्होंने यह भी लिखा था, ‘अब आप देखिए हर तरफ बदमाश मौजूद हैं. स्थिति बहुत बेकाबू है.’ द टाइम्स ऑफ माल्टा के मुताबिक डैफनी करुआना गलीजिया ने लगभग दो हफ्ते पुलिस के पास धमकियां मिलने की भी शिकायत दर्ज कराई थी.

डैफनी करुआना गलीजिया ने इसी साल की शुरुआत में प्रधानमंत्री जोसेफ मस्कट की पत्नी पर पनामा की एक फर्जी कंपनी के जरिए अनुचित लाभ हासिल करने का आरोप लगाया था. उनके मुताबिक इस फर्जी कंपनी को अजरबेजान के शासक परिवार से अघोषित भुगतान जमा कराने के लिए इस्तेमाल किया जाता था. हालांकि, प्रधानमंत्री जोसेफ मस्कट और उनकी पत्नी ने इन आरोपों से इनकार किया था.

पत्रकार डैफनी करुआना गलीजिया की मौत पर सोमवार को प्रधानमंत्री जोसेफ मस्कट ने शोक जताया है. इसे प्रेस की आजादी पर बर्बर हमला बताते हुए उन्होंने कहा, ‘मेरे खिलाफ करुआना गलीजिया की सख्त आलोचनाओं को सभी जानते हैं, लेकिन कोई भी इस बर्बर हमले का समर्थन नहीं कर सकता.’ माल्टा के प्रधानमंत्री ने बताया कि अमेरिकी जांच एजेंसी फेडरल ब्यूरो ऑफ इनवेस्टिगेशन (एफबीआई) इस मामले की जांच में स्थानीय पुलिस की मदद करने के लिए तैयार है. उधर, विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे ने पत्रकार डैफनी करुआना गलीजिया के हत्यारों की जानकारी देने वाले को इनाम देने की घोषणा की है.