अमेरिका ने भारत के साथ दोस्ताना रिश्तों को स्थायी बनाने की बात कही है. बुधवार को रेक्स टिलरसन ने कहा कि अमेरिका अगले 100 साल तक भारत के साथ अपने दोस्ताना संबंध को बनाए रखना चाहता है. वाशिंगटन में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने यह भी कहा था कि अमेरिका और भारत एक महत्वाकांक्षी साझेदारी बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

भारत ने अमेरिकी विदेशमंत्री रेक्स टिलरसन के इस बयान का स्वागत किया है. शुक्रवार को भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने रेक्स टिलरसन के बयान को भारत-अमेरिका संबंधों से जुड़ा नीतिगत बयान बताया. उन्होंने कहा कि भारत, अमेरिका के साथ अपने संबंधों को और मजबूत करने के लिए तैयार है. भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने यह भी कहा कि रेक्स टिलरसन ने दोनों देशों के रिश्तों की मजबूती और अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था के प्रति हमारी साझी प्रतिबद्धता को स्पष्ट किया है. उन्होंने यह भी कहा कि भारत दोनों देशों के भविष्य के रिश्तों पर अमेरिका के सकारात्मक दृष्टिकोण की सराहना करता है.

बुधवार को रेक्स टिलरसन ने चीन पर निशाना साधा था. उन्होंने कहा था कि बीजिंग की ‘उकसाने वाली कार्रवाई’ अंतरराष्ट्रीय कानूनों और रिवाजों के खिलाफ है. पाकिस्तान को लेकर उनका कहना था कि अमेरिका उससे अपनी सीमा के भीतर सक्रिय आतंकवादी समूहों के खिलाफ ‘निर्णायक कार्रवाई’ करने की उम्मीद कर रहा है. रेक्स टिलरसन इस महीने के आखिर में दक्षिण एशिया के यात्रा पर आने वाले हैं. इस दौरान उनके भारत आने की भी उम्मीद है.