एशिया कप में भारतीय पुरुष हॉकी टीम के बाद भारतीय महिला हॉकी टीम भी अपना दबदबा कायम रखने में सफल दिखाई दे रही है. सोमवार को जापान के काकामिगहारा में भारतीय महिला टीम ने चीन को 4-1 से हराया. भारत की ओर से गुरजीत कौर, नवजोत कौर, नेहा गोयल और रानी रामपाल ने एक-एक गोल, जबकि चीन की तरफ से काईअक्शिया कुई ने एक गोल दागा. यह भारतीय महिला हॉकी टीम की लगातार दूसरी जीत है. इससे पहले एशिया कप के उद्घाटन मैच में उसने सिंगापुर को 10-0 के अंतर से हराया था.

सोमवार को भारतीय महिला हॉकी टीम चीन की रक्षा पंक्ति तोड़ने में कई बार सफल रही, लेकिन पहले क्वार्टर में एक भी गोल नहीं कर पाई. इस दौरान हरेंद्र सिंह की तरफ से पेनाल्टी कॉर्नर का एक मौका भी गंवाया गया. हालांकि, दूसरे क्वार्टर में ड्रैग फ्लिक की उत्साद गुरजीत कौर ने पहला शानदार गोल दाग भारत का खाता खोल दिया. इसके बाद नवजोत कौर के गोल के साथ भारत ने 2-0 से बढ़त बना ली. हालांकि, भारत रक्षा रणनीति में चूक का लाभ उठाकर चीनी खिलाड़ी काईअक्शिया कुई एक पेनाल्टी कॉर्नर को गोल में तब्दील करने में सफल हो गईं. इसके बाद चीनी टीम ने चौथे क्वार्टर में स्कोर बराबर करने की कोशिश की, लेकिन भारतीय टीम ने उसे सफल होने का कोई मौका नहीं दिया. उधर, अंतिम क्वार्टर में नेहा गोयल ने एक और गोल दाग भारत को दो गोल की बढ़त दिला दी.

मैच के आखिरी दस मिनट में भारत ने दो, जबकि चीन ने एक पेनाल्टी कॉर्नर जीता लेकिन दोनों ही टीम इसे गोल में तब्दील नहीं कर पाई. हालांकि, खेल खत्म होने से ठीक दो मिनट पहले भारतीय स्किपर रानी रामपाल ने एक सनसनीखेज फील्ड गोल कर भारत की जीत के अंतर में एक और गोल का इजाफा कर दिया. भारतीय टीम अब मंगलवार को मलेशिया के साथ आखिरी पूल मैच खेलेगी.