विश्व वैंक की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग को लेकर बुधवार को कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ट्विटर पर आमने-सामने आ गए. सबसे पहले राहुल गांधी ने ग़ालिब के एक शेर के सहारे भारत की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग में सुधार पर सवाल उठाया. ट्विटर पर उन्होंने लिखा, ‘सबको मालूम है ईज ऑफ डूइंग बिजनेस की हकीकत, खुद को खुश रखने के लिए डॉ जेटली ये ख्याल अच्छा है.’ मिर्ज़ा ग़ालिब का मूल शेर इस तरह है, ‘हमको मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन दिल के ख़ुश रखने को ग़ालिब ये ख़याल अच्छा है.’

केंद्रीय मंत्री वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के इस शायराना हमले का अलग अंदाज में जवाब दिया. ट्विटर पर उन्होंने लिखा, ‘यूपीए और एनडीए में यही अंतर है कि ईज ऑफ डूइंग करप्शन की जगह ईज ऑफ डूइंग बिजनेस ने ले ली है.’ मंगलवार को जारी विश्व बैंक की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग (कारोबार में सुगमता) में भारत 100वें स्थान पर पहुंच गया है. बीते साल के मुकाबले भारत की 30 स्थानों की छलांग है. इसे टैक्स से लेकर निवेश संबंधी नियमों तक मोदी सरकार द्वारा शुरू किए गए आर्थिक सुधारों का नतीजा माना जा रहा है. विश्व बैंक की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग में कुल 190 देश शामिल हैं.