भारतीय मुक्केबाज मैरी कॉम ने वियतनाम के हो चि मिन्ह में चल रही एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनशिप में अपनी जीत का सफर जारी रखा है. खबरों के मुताबिक उन्होंने मंगलवार को 48 किग्रा वर्ग के सेमीफाइनल में जापानी मुक्केबाज सुबासा कोमुरा को एकतरफा मुकाबले में 5-0 से हराया. एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनशिप में छठी बार शामिल होने वाली मैरी कॉम पांचवीं बार फाइनल में जगह बनाने में सफल रही हैं.

मैरी कॉम का सेमीफाइनल मुकाबले के सभी तीनों दौर में प्रदर्शन काफी प्रभावशाली रहा. हालांकि, जापानी मुक्केबाज सुमारा कोमुरा ने पहले दौर में मैरी कॉम को निशाना बनाते हुए अच्छी शुरुआत की थी. लेकिन पहला दौर खत्म होने से पहले विश्व चैंपियन मैरी कॉम अपनी लय में लौट आईं और लगातार दो मुक्के जड़ इसे जीतने में सफल रहीं. इसके बाद दोनों दौर में उन्होंने अपनी लय कायम रखी.

राज्य सभा सांसद मैरी कॉम के फाइनल में पहुंचने के साथ उनका एक पदक पक्का हो गया. अगर वे फाइनल जीत जाती हैं तो इस प्रतियोगिता में उनका यह पांचवां स्वर्ण पदक होगा. इससे पहले वे 2003, 2005, 2010 और 2012 में स्वर्ण पदक जीत चुकी हैं. हालांकि, तब वे 51 किलो वर्ग में खेलती थीं. एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनशिप में मैरी कॉम के अलावा पांच अन्य भारतीय मुक्केबाज भी मंगलवार को फाइनल में जगह बनाने के लिए खेलेंगी.