मध्य प्रदेश में ज्यादा दूध देने वाली स्वस्थ और प्रसन्न गाय अब अपने मालिक को दो लाख रुपए तक का इनाम भी दिला सकती है. गौ-संरक्षण और संवर्धन को बढ़ावा देने के मकसद से राज्य का पशु कल्याण विभाग इस बाबत एक प्रतिस्पर्धा आयोजित कर रहा है. इसमें हिस्सा लेने वाले गौपालक इस इनाम के हकदार होंगे.

हिंदुस्तान टाइम्स की ख़बर के मुताबिक इस प्रतिस्पर्धा में सिर्फ भारतीय नस्ल की और एक वक्त में कम से कम चार लीटर दूध देने वाली गाय के मालिक ही हिस्सा ले सकेंगे. यह प्रतिस्पर्धा विकास खंड, जिला और फिर राज्य स्तर पर होगी. राज्य स्तर पर जीतने वाले गौपालक को दो लाख रुपए और दूसरे तथा तीसरे नंबर पर रहे गौपालकों को क्रमश: एक लाख और 50 हजार रुपए की नगद इनामी राशि दी जाएगी. इसी तरह जिला स्तर पर जीतने वाले को 50 हजार रुपए और विकास खंड स्तर के विजेता को 10 हजार रुपए का नगद इनाम मिलेगा.

राज्य के पशु पालन विभाग के कार्यकारी निदेशक केदार सिंह जाधव बताते हैं, ‘यह अनोखी प्रतिस्पर्धा ख़ास तौर पर उन लोगों के लिए है जो अपनी गायों की बहुत अच्छे से देखभाल करते हैं. प्रतिस्पर्धा नवंबर के पहले हफ्ते से शुरू हो चुकी है. इसमें सिर्फ यह नहीं देखा जा रहा है कि गायें कितना दूध देती हैं. बल्कि यह भी देखा जा रहा है कि उनका स्वास्थ्य कैसा है? उनकी देखभाल ठीक से हो रही है या नहीं.’ वे बताते हैं कि इस प्रतिस्पर्धा का मकसद जरसी जैसी भारतीय नस्लों की गायों के संरक्षण को प्रोत्साहित करना है. ग़ौरतलब है कि कुछ दिन पहले हरियाणा सरकार ने भी मुर्रा नस्ल की गायों के संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए झज्जर में उनकी एक सौंदर्य प्रतियोगिता आयोजित की थी.