वस्तु और सेवा कर (जीएसटी) काउंसिल ने उपभोक्ताओं को बड़ी राहत दी है. शुक्रवार को गुवाहाटी में आयोजित बैठक में 177 वस्तुओं को 28 फीसदी वाले जीएसटी स्लैब से बाहर कर दिया गया है. अब इन पर 18 फीसदी कर लगेगा. जीएसटी काउंसिल के इस फैसले के बाद 28 फीसदी के जीएसटी स्लैब में तंबाकू, सिगरेट, एसी, वाशिंग मशीन, पेंट और सीमेंट जैसी 50 वस्तुएं ही बची हैं. जीएसटी के मौजूदा ढांचे में करों के पांच स्लैब हैं. पहले स्लैब में कर मुक्त वस्तुएं हैं. इसके बाद पांच फीसदी, 12 फीसदी, 18 फीसदी और 28 फीसदी के चार स्लैब हैं.

जीएसटी के 28 फीसदी आखिरी स्लैब में इससे पहले 227 वस्तुएं थीं. न्यूज18 के अनुसार बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बताया, ‘28 फीसदी वाले जीएसटी स्लैब को 62 वस्तुओं तक सीमित करने की सिफारिश की गई थी, लेकिन जीएसटी काउंसिल ने इनमें से 12 और वस्तुओं को हटा दिया.’ उनके मुताबिक आम लोगों के इस्तेमाल में आने वाली सभी वस्तुओं को 28 फीसदी के स्लैब से हटा दिया गया है, अब चॉकलेट, च्यूइंग गम, ऑफ्टरशेव, सौंदर्य उत्पाद, डिटर्जेंट और मार्बल जैसी वस्तुओं पर 18 फीसदी जीएसटी लगेगा. सुशील कुमार मोदी ने बताया कि इससे सरकार को 20 हजार करोड़ रुपये के राजस्व का नुकसान उठाना पड़ेगा.

देश में जीएसटी को इसी साल जुलाई में लागू किया गया है. इसके तहत जीएसटी काउंसिल की हर महीने बैठक होती है. गुवाहाटी में जीएसटी काउंसिल की 23वीं बैठक की अध्यक्षता केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने की.