दिल्ली का आम आदमी – इस माहौल में मैं अपनी नाक से आगे तक भी नहीं देख पा रहा हूं.
दिल्ली का नेता – मुझे तो इसकी आदत है. इससे आगे तो हम कभी देखते भी नहीं!


अगर अरविंद केजरीवाल सच में दिल्ली की राजनीति में आने के इच्छुक थे तो उन्हें मफलर के साथ नहीं, मास्क के साथ इसकी शुरुआत करनी थी.


राहुल गांधी अब सच में पीएम बनने के काबिल हो गए हैं क्योंकि 2014 के बाद से तो चुटकुले सुनाना ही पीएम बनने की योग्यता हो चुकी है!


सप्ताह का कार्टून :

आम आदमी पार्टी का इंटरनल सर्वे बताता है कि गुजरात में वह 121 सीटें जीतने जा रही है. हां, यह अलग बात है कि पार्टी वहां सिर्फ 20 सीटों पर चुनाव लड़ रही है.


नरेंद्र मोदी हिमाचल प्रदेश की एक सभा में – यहां तो मुकाबला इकतरफा है.
जनता – जी मोदी जी, फेंकने के मुकाबले में भला आपके सामने कौन टिक सकता है!


अरुण जेटली उस डॉक्टर की तरह हैं जिसे मरीज की दोनों टांगें काटने के बाद पता चलता है कि टांगों में जहर नहीं फैल रहा था बल्कि जींस रंग छोड़ रही थी!