सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद की उपेक्षा करने का आरोप लगाया जा रहा है. एक वीडियो के आधार पर यह दावा किया गया है. बीती छह नवंबर का यह वीडियो तमिलनाडु के एक आईएएस अधिकारी की बेटी की शादी का है. कहा जा रहा है कि इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ‘राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद’ भी शरीक हुए थे. नीचे वीडियो के स्क्रीनशॉट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ‘राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद’ को देखा जा सकता है.

सरकार और लोकतांत्रिक पदों पर बैठे व्यक्तियों के लिए ख़ास प्रोटोकॉल का पालन किया जाता है. यह एक तरह का औपचारिक शिष्टाचार होता है. राष्ट्रपति जहां भी होते हैं, उन्हें प्रोटोकॉल के तहत सबसे पहले प्राथमिकता दी जाती है. अगर साथ में प्रधानमंत्री हों, तो भी प्रोटोकॉल के तहत पहले राष्ट्रपति को ही प्राथमिकता दी जाती है क्योंकि वे देश के सर्वोच्च पदाधिकारी हैं. वहीं, वीडियो में नरेंद्र मोदी को ज़्यादा प्राथमिकता मिलती दिख रही है.

यह वीडियो छह नवंबर का है. इसकी असली कहानी बताने से पहले आपको राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद की एक और तस्वीर दिखाते हैं. यह तस्वीर भी छह नवंबर की ही है, लेकिन तमिलनाडु की नहीं है, देखें.

इस तस्वीर में राष्ट्रपति कोविंद के साथ रमन सिंह दिख रहे हैं. रमन सिंह तमिलनाडु के मुख्यमंत्री नहीं हैं. वे छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री हैं. छह नवंबर को राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद छत्तीसगढ़ के गिरोधीपुरी में एक सामुदायिक भवन के भूमि पूजन में गए हुए थे. ऊपर जो तस्वीर आपने देखी वह उसी समय की है और राष्ट्रपति की आधिकारिक वेबसाइट से निकाली गई है. उनके फ़ेसबुक पेज पर भी यही जानकारी दी गई है.

यानी यह तो साफ़ है कि तमिलनाडु की शादी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ जो व्यक्ति थे वे राष्ट्रपति कोविंद नहीं थे. वे कौन थे, यह जानने के लिए न्यूज़ एजेंसी एएनआई का यह वीडियो देखा जाना चाहिए जो नीचे दिया गया है. वीडियो देखने से पहले पीएम मोदी के साथ दिख रहे व्यक्ति की वेश-भूषा याद रखने की ज़रूरत है, पहचान के लिए.

इस वीडियो के शुरुआती एक-दो सेकंड में वही शख्स पीएम मोदी के पीछे दिखाई दे रहा है. यह व्यक्ति तमिलनाडु के गवर्नर बनवारी लाल हैं. छह नवंबर को प्रधानमंत्री के तमिलनाडु दौरे के दौरान वे उनके साथ ही रहे. प्रधानमंत्री के कई कार्यक्रम थे और गवर्नर बनवारी लाल उनके साथ हर जगह गए. इन सभी में उन्होंने वही कपड़े पहने हुए थे जो उन्होंने शादी वाले वीडियो में पहने हुए थे.

ट्विटर
ट्विटर

ऊपर की इन दोनों तस्वीरों में राज्यपाल बनवारी लाल को प्रधानमंत्री मोदी के साथ देखा जा सकता है. यानी यह दावा कि प्रधानमंत्री ने राष्ट्रपति की उपेक्षा की, झूठा है.