ऐसा पहली बार है कि जब किसी फुकरे की वापसी पर सब खुश हो रहे हैं! दरअसल, फुकरे शब्द आमतौर पर कामचोर या बेकार लोगों के लिए इस्तेमाल किया जाता है और ऐसे लोगों से दुनिया परेशान ही रहती है. हालांकि जब फिल्म की बात होती है तो यह शब्द कॉमेडी का मायने बन जाता है. साल 2013 में रिलीज हुई फुकरे बॉलीवुड की जरूर देखी जाने वाली एंटरटेनिंग फिल्मों में गिनी जाती है. इसके सीक्वल ‘फुकरे रिटर्न्स’ की झलकियां एंटरटेनमेंट के अगले डोज के लिए तैयार रहने की बात कहती नजर आ रही हैं.

फुकरे की सबसे बड़ी खासियत थी कि इसका स्क्रीनप्ले कॉमेडी की रोलर कोस्टर राइड सरीखा मजा देता है और फिलहाल ये झलकियां भी फिल्म की कहानी के लगभग वैसा ही होने की बात कहती हैं. पिछली बार एक किरदार के सपनों को आधार बनाकर फिल्म में ढेर सारा ड्रामा और हास्य रचा गया था. इस बार विशेष किस्म के सपनों के बजाय इस किरदार को भविष्य देखने की क्षमता दे दी गई है. यहां पर यह देखने वाली बात होगी कि पहचाने हुए किरदारों और उनकी बदली हुई अजीबो-गरीब क्षमताओं के जरिए फिल्म किस तरह मनोरंजन करने में सक्षम हो पाएगी. हालांकि ट्रेलर में शामिल किए गए संवाद फिल्म में हंसी के फव्वारों का पूरा इंतजाम होने का इशारा देते हैं.

पुल्कित सम्राट, वरुण शर्मा, मनजोत सिंह और अली फजल अपने-अपने किरदारों में, अपने पुराने अंदाज के साथ वापसी कर रहे हैं. इनकी कंटीन्यूटी देखकर ऐसा नहीं लग रहा कि फिल्म की पहली और दूसरी किस्त में चार साल का अंतर है. चाल-ढाल-मिजाज से निपट दिल्ली के ‘लौंडे’ लगने वाले पुल्कित और वरुण की जोड़ी पर सबकी नजर होगी, यह समझकर इनकी केमिस्ट्री पर खास ध्यान दिया गया है, ऐसा ट्रेलर बताता है.

Play

इसके अलावा पिछली बार ज्यादातर क्रिटिक्स की राय थी कि पंकज त्रिपाठी के किरदार की लंबाई और वजन थोड़ा बढ़ाया जाना, फिल्म के लिए फायदेमंद साबित हो सकता था. इस बार ट्रेलर में पंकज त्रिपाठी को महत्व देना, फिल्म में उनकी दमदार मौजूदगी का इशारा लगता है. ट्रेलर में जेल से वापस आई भोली के किरदार में ऋचा चड्ढा भी पूरी मासूमियत से संवाद बोलती दिखती हैं. वे बाकी किरदारों को डराने के अलावा और क्या-क्या करेंगी, यह फिल्म के लिए बचाकर रख लिया गया है.

निर्देशक मृगदीप सिंह लांबा ने पिछली बार की तरह इस बार भी विपुल विग के साथ मिलकर इसका लेखन किया है. यह बात फिल्म के मजेदार होने की उम्मीद थोड़ी और बढ़ा देती है. फिलहाल, ट्रेलर में एक संवाद है जिसमें वरुण शर्मा का किरदार ‘चूचा’ कहता है कि अगर ‘देजा वू’ (पहले से देखा हुआ) जैसी कोई बात उसके साथ हो रही है तो इसे ‘देजा चू’ ही कहेंगे. इसी तर्ज पर हम कह सकते हैं कि अगर ‘फुकरे रिटर्न्स’ हमें आते 15 दिसंबर को पिछली बार जैसा मजा देने में कामयाब हो जाती है तो हम इसे ‘देजा फू’ कहेंगे.