श्री श्री रविशंकर को अयोध्या मामले में मध्यस्थता के प्रस्ताव के लिए नोबेल पुरस्कार नहीं मिलने जा रहा.’

— असदुद्दीन ओवैसी, एआईएमआईएम के अध्यक्ष

लोकसभा सांसद असदुद्दीन अोवैसी का यह बयान अयोध्या विवाद में मध्यस्थता करने की कोशिश कर रहे श्री श्री रविशंकर के अधिकार पर सवाल उठाते हुए आया. उन्होंने कहा कि श्री श्री रविशंकर को पहले नेशनल ग्रीन ट्राइब्यूनल (एनजीटी) का जुर्माना चुकाना चाहिए, फिर शांति की बात करनी चाहिए. असदुद्दीन ओवैसी ने आगे कहा, ‘ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने साफ-साथ कह दिया है कि वह ऐसे किसी प्रस्ताव को स्वीकार नहीं करेगा, इसलिए लोगों को हवाहवाई समाधान निकालने की कोशिश नहीं करनी चाहिए.’ उधर, असदुद्दीन ओवैसी के इस बयान पर श्री श्री रविशंकर ने कहा है कि उन्हें इस मामले मध्यस्थता करने के लिए किसी की मंजूरी की जरूरत नहीं है.

‘राजद कोई सामान्य राजनीतिक संगठन नहीं, एक निजी राजनीतिक दल है.’

— नीतीश कुमार, बिहार के मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का यह बयान राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव द्वारा लगातार 10वीं बार पार्टी अध्यक्ष के लिए नामांकन भरने पर आया. उन्होंने कहा, ‘यह उनकी पार्टी का अंदरूनी मामला है. लेकिन राजद के संविधान में हर साल अध्यक्ष चुनने के प्रावधान पर मुझे ताज्जुब है. पिछले साल ही अध्यक्ष का चुनाव हुआ था. लेकिन उस दल के बारे में क्या कहा जाए जो पारिवारिक संपत्ति बन गया है.’ नीतीश कुमार ने राजद द्वारा नया अध्यक्ष चुनने की कवायद को सुर्खियों में आने की कोशिश बताया. उनका यह भी कहना था कि राजद पिछले चुनाव में ज्यादा सीट मिलने से काफी उत्साहित है, लेकिन अगले विधानसभा चुनाव में ‘बैक टु पविल्यन’ हो जाएगी.


‘भारत को बदलने का काम अभूतपूर्व स्तर पर आगे बढ़ रहा है.’

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का यह बयान देश में सरकारी कामकाज और आर्थिक सुधारों की दिशा में अपनी सरकार के प्रयासों की चर्चा करते हुए आया. फिलीपींस में आसियान देशों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ‘हम लोग रातों-दिन सरल, प्रभावी और पारदर्शी शासन लाने की दिशा में प्रयास कर रहे हैं.’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आगे कहा कि सरकार लोगों तक पहुंच बनाने के लिए तकनीक का इस्तेमाल कर रही है. उन्होंने यह भी कहा कि बीते एक साल में भारत में डिजिटल लेन-देन में 34 फीसदी का उछाल आया है. प्रधानमंत्री के मुताबिक उनकी सरकार भारतीयों को नौकरी देने वाला बनाने का प्रयास कर रही है, न कि नौकरी खोजने वाला.


‘पुलिस हो या सीबीआई, आपराधिक मामलों में आरोपितों के साथ पूछताछ कैमरे के सामने होनी चाहिए.’

— शत्रुघ्न सिन्हा, भाजपा सांसद

भापपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा का यह बयान पूछताछ के दौरान आरोपितों को प्रताड़ित करने या थर्ड डिग्री देने की घटनाओं पर चिंता जताते हुए आया. गुड़गांव के रयान पब्लिक स्कूल में छात्र प्रद्मुम्न की हत्या के मामले में पुलिस पर पूछताछ के दौरान बस कंडक्टर अशोक कुमार को प्रताड़ित करने का आरोप लगा है. इस बारे में भाजपा सांसद ने कहा, ‘अगर गरीब अशोक कुमार को सीबीआई ने छोड़ा है तो गुड़गांव पुलिस या जिन लोगों ने ध्यान भटकाने के लिए उसे फंसाने की कोशिश की थी, उन्हें कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए.’ इस मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने स्कूल के कक्षा 11 के छात्र को आरोपित बनाया है.


‘म्यांमार के सैनिकों ने रोहिंग्या महिलाओं को व्यवस्थित तरीके से निशाना बनाया था और उनके साथ सामूहिक बलात्कार किया था.’  

— प्रमिला पाटेन, संयुक्त राष्ट्र महासचिव की विशेष प्रतिनिधि

यूएन महासचिव की विशेष प्रतिनिधि प्रमिला पाटेन का यह बयान म्यांमार में रोहिंग्या समुदाय के उत्पीड़न को लेकर आया. उन्होंने कहा कि म्यांमार में बलात्कार की वजह से कई महिलाओं और लड़कियों की मौत हो गई. प्रमिला पाटेन ने कहा, ‘यौन हिंसा की शिकार महिलाओं से जो सुनने को मिला, उनमें सैनिकों द्वारा बार-बार बलात्कार करना, सार्वजनिक तौर पर निर्वस्त्र करना और सेना की कैद में यौन दासता जैसी बातें शामिल हैं.’ उन्होंने म्यांमार से रोहिंग्या मुसलमानों के पलायन के पीछे यौन हिंसा को प्रमुख वजह बताया. बांग्लादेश के कॉक्स बाजार में शरणार्थी शिविरों का दौरा करने के बाद प्रमिला पाटेन ने कहा कि कई महिलाओं के शरीर पर दांत काटने, खरोंचों और घावों के निशान मौजूद हैं.