आयकर विभाग की छापामारी के इतिहास में शायद यह अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई हो. तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत जयललिता की सहयोगी जिन शशिकला को कभी कोई छू तक नहीं सकता था उन्हीं के 187 ठिकानों पर पांच दिन तक आयकर विभाग की सैकड़ों टीमों ने जामा-तलाशी ले डाली. तलाशी अभियान अभी सोमवार को खत्म हुआ है और अब इस अभियान के दौरान पता लगी संपत्ति और दस्तावेज़ वग़ैरह की पड़ताल का काम चल रहा है. ख़बरों के मुताबिक इसमें अब तक 1,430 करोड़ रुपए की कर चोरी का पता चल चुका है.

द हिंदू के मुताबिक छापामारी का सिलसिला बीते गुरुवार को शुरू हुआ था. इस बारे में आयकर विभाग के एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर अख़बार को बताया, ‘अभी कर चोरी का जो आंकड़ा आया है वह अंतिम नहीं है. यह अभी और बढ़ सकता है. अलबत्ता छापामारी का काम खत्म हो चुका है.’ उन्होंने बताया, ‘तमिलनाडु के अलावा कंपनी के बेंगलुरू, पुड्‌डुचेरी और नई दिल्ली स्थित ठिकानों पर भी छापामारी की गई. इसमें अब तक 15 बैंक खाते सील किए जा चुके हैं. जबकि 15 ही बैंक लॉकर अभी खोले जाने बाकी हैं. कई किलोग्राम के गहने, नगदी और संदिग्ध दस्तावेज़ जब्त किए गए हैं. अचल संपत्ति का अभी आकलन नहीं हुआ है. उसकी प्रक्रिया जारी है.’

हालांकि ख़बरों की मानें तो लगभग सात करोड़ रुपए नगद, पांच करोड़ रुपए के गहने जब्त किए गए हैं. आयकर सूत्रों के मुताबिक, ‘प्रक्रिया के तहत सोमवार को शशिकला के भतीजे और जया टीवी के प्रबंध निदेशक विवेक जयरामन सोमवार शाम नुंगमबक्कम स्थित विभाग के दफ़्तर आए. वहां उन्होंने जांच संबंधी कागजों पर दस्तख़त किए. अभी किसी से पूछताछ नहीं की गई है. उन लोगों ने विभाग के समन के जवाब में कुछ समय मांगा है.’