अक्टूबर में पिछले 14 महीनों के दौरान पहली बार देश के निर्यात में कमी दर्ज की गई. वाणिज्य मंत्रालय के अनुसार पिछले महीने देश का निर्यात 1.12 फीसदी घटकर 23 अरब डॉलर रहा. दूसरी ओर पिछले महीने आयात में 7.6 फीसदी का इजाफा हुआ और यह 37 अरब डॉलर हो गया. इन वजहों से अक्टूबर में देश का व्यापार घाटा बढ़कर 14 अरब डॉलर तक पहुंच गया. यह पिछले 35 महीनों में व्यापार घाटे का उच्चतम स्तर है.

वाणिज्य मंत्रालय के अनुसार अक्टूबर में निर्यात गिरने की मुख्य वजह कपड़ा, दवा, चमड़े और रत्न-आभूषणों के निर्यात में कमी रही. वहीं अक्टूबर में सोने का आयात 16 फीसदी गिरकर 2.94 अरब डॉलर के स्तर पर पहुंच गया. सितंबर में देश का निर्यात छह महीने के उच्चतम स्तर पर था. उस महीने देश का निर्यात 25.67 फीसदी बढ़कर 28.61 अरब डॉलर रहा.

सरकार के अनुसार मौजूदा वित्त वर्ष के अब तक के सात महीनों में देश का निर्यात करीब 10 फीसदी बढ़ा है. वहीं आयात में अभी तक करीब 22 फीसदी की तेजी देखने को मिली है. इस चलते अभी तक के सात महीनों में देश का व्यापार घाटा बढ़कर 86.14 अरब डॉलर हो गया है.

आलोचकों के अनुसार सरकार को निर्यात में गिरावट थामने के लिए तुरंत जरूरी कदम उठाने की जरूरत है, नहीं तो नवंबर में व्यापार घाटे के मामले में हालत और खराब हो सकती है. हालांकि सरकार द्वारा जीएसटी में किए गए ताजा सुधार इस हालत में बदलाव ला सकते हैं. लेकिन ये सुधार 15 नवंबर से लागू होने वाले हैं.