केरल में जमीन हड़पने के आरोप में घिरे परिवहन मंत्री थॉमस चांडी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार उन्होंने बुधवार को मुख्यमंत्री पी विजयन को इस्तीफा सौंप दिया. माना जा रहा है कि पूर्व मंत्री एके ससींद्रन को थॉमस चांडी की जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है. थॉमस चांडी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अकेले विधायक हैं, जिन्हें कैबिनेट में जगह मिली थी.

रिपोर्ट के मुताबिक यह मामला थॉमस चांडी के स्वामित्व वाली एक कंपनी द्वारा अलप्पुझा जिले में भूमि संबंधी नियमों का कथित उल्लंघन कर सड़क बनाने से जुड़ा है. यह सड़क धान के खेतों से होकर एक रिजॉर्ट तक बनाई गई थी. अलप्पुझा के जिलाधिकारी ने अपनी रिपोर्ट में इस भूमि अतिक्रमण की पुष्टि की है. हालांकि, अपने बचाव में थॉमस चांडी का कहना है कि उन्होंने 13 साल पहले यह रिजॉर्ट बनवाया था, इसलिए अब इस मामले को उठाने का कोई मतलब नहीं है.

उधर, मंगलवार को केरल हाई कोर्ट ने थॉमस चांडी की उस याचिका रद्द कर दिया था, जिसमें जिलाधिकारी की रिपोर्ट को खारिज करने की मांग की गई थी. अदालत ने यह भी सवाल उठाया था कि कोई मंत्री अपनी ही सरकार के खिलाफ याचिका कैसे लगा सकता है. इसके साथ हाई कोर्ट ने सुझाव दिया था कि कैबिनेट से इस्तीफा देना ही थॉमस चांडी के लिए सबसे अच्छा विकल्प होगा. केरल हाई कोर्ट ने इस मामले से निपटने के राज्य सरकार के तौर-तरीके को लेकर भी सवाल उठाया था. अदालत ने पूछा था कि परिवहन मंत्री के साथ विशेष व्यवहार क्यों किया जा रहा है.