देश के चार राज्यों में 10 और 12वीं की परीक्षाएं अपने तय समय से आगे खिसक सकती हैं. यानी उनमें देर हो सकती है. इन राज्यों में कर्नाटक, मेघालय, त्रिपुरा और नगालैंड शामिल हैं.

एनडीटीवी के मुताबिक इन चारों राज्यों में अगले साल के शुरू में ही विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. और चुनाव की तारीखों के परीक्षाओं की तारीख से टकराने की संभावना है. इसीलिए राज्यों के शिक्षा मंडल इस इंतजार में हैं कि पहले चुनाव तारीखें घोषित हो जाएं या उनका संकेत मिल जाए. इसके बाद परीक्षाओं की तारीखें घोषित की जाएं.सीआईएससीई (काउंसिल फॉर इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एक्जामिनेशन) के मुख्य कार्यकारी गैरी आरथून इसकी पुष्टि करते हैं. उनके मुताबिक, ‘अगले साल कई राज्यों में चुनाव हैं. इसलिए हम इस इंतजार में हैं कि निर्वाचन आयोग पहले साल के शुरू में होने वाले चुनावों की तरीखें घोषित कर दे. फिर उसके हिसाब से हम भी परीक्षाओं की तारीखें घोषित करें.’

यहां बताते चलें कि पिछले साल भी पांच राज्यों में चुनाव की वजह से परीक्षाओं की तारीखों में बदलाव किया गया था. उन्हें समय से पहले करा लिया गया था. हालांकि इस बार सीबीएसई (केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा मंडल) जैसे बोर्ड अपनी परीक्षाएं तय समय पर कराने की ही तैयारी कर रहे हैं. सीबीएसई के सूत्रों के मुताबिक, ‘अभी तक तो जो कार्यक्रम है उसके अनुसार 10वीं की परीक्षाएं मार्च में खत्म हो जाएंगी. जबकि 12वीं की परीक्षाएं अप्रैल तक चलेंगी. इनकी तारीखें जल्द ही घोषित की जा सकती हैं. हालांकि दो प्रश्न पत्रों के बीच का समय जरूर कम हो सकता है. ताकि परीक्षाएं जल्द पूरी कराई जा सकें.’ वैसे सीबीएसई की परीक्षाएं समय से पहले फरवरी में ही कराए जाने की चर्चा भी है.