तीन तलाक देने वालों को अब तीन साल तक की सजा हो सकती है. सरकार ने इस संबंध में एक कानून का मसौदा तैयार कर लिया है. इसके मुताबिक तीन तलाक देना गैरजमानती अपराध होगा.

प्रस्तावित कानून का मसौदा गृहमंत्री राजनाथ सिंह की अगुवाई वाली मंत्रियों की एक समिति ने बनाया है. फिलहाल इसे राज्यों को भेजा गया है ताकि वे इस पर अपनी राय दे सकें. इसके बाद कानून मंत्रालय इसे कैबिनेट के सामने रखेगा. प्रस्तावित कानून के मुताबिक तीन तलाक, भले ही वो बोलकर दिया गया हो या लिखकर या फिर वाट्सऐप के जरिये, अपराध होगा. इसमें पीड़िता द्वारा अपने और अपने बच्चों के लिए गुजारा भत्ता पाने के मकसद से मजिस्ट्रेट के पास गुहार लगाने का भी प्रावधान है.

कुछ समय पहले सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक को गैरकानूनी घोषित कर दिया था. इसके बाद भी यह प्रथा जारी रहने की खबरें आ रही थीं. यही वजह है कि अब सरकार इसके लिए कानून लाने की तैयारी में है.